October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

केंद्र सरकार के असयोगात्मक रवैये के मुद्दे पर उपचुनाव लड़ा जाएगा : आलोक कुमार दूबे

रांची:- झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि बेरमो और दुमका विधानसभा उपचुनाव गठबंधन सरकार के नौ महीने के कार्यकाल की उपलब्धियों और वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमणकाल में केंद्र सरकार के असहयोगात्मक रवैये के मुद्दे पर लड़ा जाएगा।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता ने कहा कि वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में जनता ने पांच सालों के लिए जेएमएम-कांग्रेस को गठबंधन को बहुमत दिया है, दुर्भाग्यवश बीमारी की वजह से पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र प्रसाद सिंह का आकस्मिक निधन हो गया। बेरमो का इलाका कांग्रेस का गढ़ रहा है, 2014 में भाजपा के प्रपंच के कारण यहां पार्टी हारी जरूरी थी, लेकिन 2019 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने यहां से लगभग 25 हजार से मतों के अंतर से बड़ी जीत हासिल की थी और इस उपचुनाव में जीत का अंतर 50 हजार से अधिक मतों का अंतर होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव तथा प्रभारी आरपीएन िंसंह के दौरे से कार्यकर्त्ताओं में उत्साह का संचार हुआ है। वहीं दुमका विधानसभा क्षेत्र खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का कार्य क्षेत्र रहा है, वे इस क्षेत्र का पहले भी दो बार प्रतिनिधित्व कर चुके है, इस बार चूंकि वे बरहेट और दुमका दोनों ही सीटों से चुनाव जीते थे, इसलिए संवैधानिक बाध्यता के कारण एक सीट छोड़नी पड़ी।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में गठबंधन सरकार ने पिछले नौ महीने में लॉकडाउन और कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण के फैलाव के बावजूद सामंजस्य बनाकर गरीब और जरूरतमंद परिवारों को अनाज पहुंचाने के साथ ही हर प्रवासी कामगार और श्रमिकों को रोजगार भी उपलब्ध कराने का काम किया। मनरेगा योजनाओं की मदद से संक्रमणकाल में ग्रामीण क्षेत्रों में हर परिवार को काम उपलब्ध कराने की कोशिश की गयी, वहीं लॉकडाउन में जब सबकुछ बंद था, उस दौरान कृषि के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय काम किये गये, जबकि स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार तथा प्रखंड-पंचायत स्तर तक कोरोना जांच की सुविधा उपलब्ध कराने की कोशिश शुरू हुई।
प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा नेता छद्म राष्ट्रवाद की बात करते है, लेकिन संतालपरगना के रहने वाले जनजातीय परिवार के सदस्य शून्य से 40 डिग्री नीचे तापमान वाले क्षेत्र में भी बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन, बीआरओ के माध्यम से सड़क निर्माण कार्य में अपनी महती भूमिका निभाग कर राष्ट्र सेवा में जुटे है।

Recent Posts

%d bloggers like this: