October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रांची धुम्रपान मुक्त जिला घोषित , तंबाकू मुक्त करने की मुहिम जारी रहेगी – उपायुक्त

रांची:- रांची धुम्रपान मुक्त जिला बन गया है। आज 30 सितंबर 2020 को राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत जिला नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक में उपायुक्त छवि रंजन ने रांची को धुम्रपान मुक्त जिला बनने की घोषणा की। तंबाकू नियंत्रण कानून (कोटपा)-2003 की धारा-4 के तहत रांची जिला को धुम्रपान मुक्त घोषित किया गया है।
सर्वे के आधार पर धुम्रपान मुक्त हुआ जिला
उपायुक्त छवि रंजन ने कहा कि रांची को धुम्रपान मुक्त जिला घोषित करने के लिए सर्वे कराया गया। तंबाकू नियंत्रण कानून (कोटपा)-2003 के विभिन्न मापदंडों के तहत सर्वे कराने बाद ही जिला को धुम्रपान मुक्त घोषित किया गया है। सर्वे के आधार पर कोटपा -2003 की धारा-4 के तहत रांची को धुम्रपान मुक्त घोषित किया गया। इस धारा के तहत सार्वजनिक स्थानों पर धुम्रपान निषेध है।
उपायुक्त रांची श्री छवि रंजन ने कहा कि ये ऐतिहासिक दिन है, ये मुहिम आगे भी जारी रहेगी, रांची जिला को अभी तंबाकू मुक्त करना है। उन्होंने कहा कि कोटपा-2003 के विभिन्न धाराओं का जिले में पूरी तरह से पालन हो इसके लिए जिला और प्रखंड स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है। उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को निरंतर जांच अभियान चलाते रहने का निर्देश दिया।
उपायुक्त ने कहा कि जिले में तंबाकू नियंत्रण कानून (कोटपा)-2003 का उल्लंघन करने पर कार्रवाई जारी रहेगी। इसके लिए जिला और प्रखंड स्तर पर बनायी गयी टीम निरंतर जांच करेगी और कानून का उल्लंघन करनेवालों के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई की जायेगी।
उपायुक्त छवि रंजन ने रांची वासियों से स्वस्थ समाज के निर्माण में सहयोग की अपील की है, उन्होंने कहा कि सभी नागरिक तंबाकू नियंत्रण कानून का पूर्ण सम्मान करें और किसी भी सार्वजनिक स्थान पर न धुम्रपान करें और न ही इसको बढ़ावा दें, ताकि अप्रत्यक्ष धुम्रपान के प्रभाव से आम लोगों को बचाया जा सके।
रांची समाहरणालय स्थित उपायुक्त सभागार में राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम अंतर्गत जिला नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक में जिले में तंबाकू नियंत्रण के दौरान अब तक किये गये कार्यों की जानकारी पीपीटी के माध्यम से दी गयी। इस दौरान जिला तंबाकू नियंत्रण समन्वय समिति के सभी सदस्य, जिला तंबाकू नियंत्रण कोषांग के संबंधित पदाधिकारी एवं अन्य उपस्थित थे।
स्वास्थ्य के क्षेत्र में झारखंड की पूरे देश में विशिष्ट पहचान बनेगी-हेमंत सोरेन
सीएम ने नर्सिंग कौशल कॉलेज की छात्राओं के बीच नियुक्त पत्र का वितरण किया
रवि सिन्हा, रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में झारखंड की पूरे देश में विशिष्ट पहचान बनेगी। मुख्यमंत्री ने बुधवार को रांची में अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग की एसपीवी प्रेझा फाउंडेशन द्वारा संचालित चान्हो नर्सिंग कौशल कॉलेज के छात्राओं के बीच नियुक्ति पत्र वितरण समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रशिक्षण उनके लिए मील का पत्थर साबित होगा। नर्सिंग कॉलेज की 111 छात्राओं में से 60 नर्स अपोलो ग्रुप, 31 नर्स नाइन क्लाउड हॉस्पिटल , 20 नर्स मेदांता और अन्य अस्पतालों से जुड़ेंगी ।
स्वास्थ्य के क्षेत्र ने बनायेंगी अलग पहचान
मुख्यमंत्री ने कहा कि रांची के चान्हो के अतिरिक्त चाईबासा, सरायकेला, साहेबगंज में भी बच्चियों को नर्सिंग का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जल्द वहां की भी हुनरमंद बच्चियां आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर होंगी। आने वाले समय में स्वास्थ्य के क्षेत्र में झारखण्ड की बच्चियां अलग पहचान बनायेंगी।
प्रेझा का कार्य सरहनीय
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रेझा फाउंडेशन ने स्वास्थ्य सेवा में कड़ी जोड़ने का कार्य किया है। कोरोना संक्रमण के दौर में विश्व स्तरीय लेबोरेटरी की स्थापना प्रेझा द्वारा की गई। कई युवक-युवतियों को अवसर प्रदान कर उनकी बेहतरी के लिए कार्य किया है। प्रेझा ने शिक्षा के साथ-साथ रोजगार से भी आच्छादित करने का कार्य किया है। इस प्रशिक्षण को पूर्ण कराने में एचडीएफसी बैंक की भूमिका भी सराहनीय है।
बेहतरी का प्रयास होता रहेगा
इस मौके पर अनुसूचित जनजाति,अनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण चंपाई सोरेन ने कहा कि चान्हो नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं का प्रशिक्षण पूर्ण हुआ। आज उन्हें नियुक्ति पत्र मिल रहा है। राज्य के विभिन्न जिलों में बच्चियों को प्रशिक्षण देने का कार्य निरंतर संचालित है। इसे और बेहतर करना है, ताकि गरीब परिवार की बच्चियों को अवसर मिले और वे आत्मनिर्भर बन सकें। इन छात्राओं को सेवा करने का अवसर मिलेगा।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री व मंत्रीगण ने प्रशिक्षण प्राप्त 35 बच्चियों को नियुक्ति पत्र प्रदान कर उनके सुखद भविष्य की कामना की। मौके पर श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण मंत्री सत्यानंद भोक्ता, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ राजीव अरुण एक्का, सचिव अमिताभ कौशल, आदिवासी कल्याण आयुक्त हर्ष मंगला व नव नियुक्त नर्स उपस्थित थीं।

Recent Posts

%d bloggers like this: