October 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आईफोन बनाने के लिए तीन कंपनियां करेंगी भारत में 6500 करोड़ का निवेश

नई प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम के तहत होगा निवेश

मुंबई:- महंगे मोबाइल फोन की निर्माता एप्पल के शीर्ष तीन कांट्रैक्ट सप्लायर देश में 6,500 करोड़ रुपए का निवेश करने वाले है। यह निवेश अगले पांच सालों में होगा। यह निवेश नई प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) स्कीम के तहत होगा।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एप्पल के टॉप कांट्रैक्ट सप्लायर में फाक्सकान, विस्ट्रान और पेगाट्रोन हैं। यह सभी कंपनियां मिलकर पीएलआई की स्कीम के तहत निवेश करेंगी। देश में 6.65 अरब डॉलर की पीएलआई स्कीम कंपनियों के लिए शुरू की गई है। यह कैश इंसेंटिव स्कीम है जो किसी भी लोकल बने स्मार्टफोन की बिक्री की बढोत्तरी में मिलेगा। इस स्कीम का उद्देश्य भारत को एक्सपोर्ट मैन्युफैक्चरिंग के हब के रूप में बदलना है।
सूत्रों ने बताया कि फॉक्सकॉन ने करीब 4,000 करोड़ रुपए के निवेश के लिए आवेदन किया है। जबकि विस्ट्रॉन ने 1,300 करोड़ रुपए और पेगाट्रोन ने 1200 करोड़ रुपए के निवेश के लिए आवेदन किया है। ये कंपनियां वैश्विक स्तर पर अन्य कंपनियों के डिवाइस भी बनाती हैं। हालांकि भारत में अभी सिर्फ एप्पल के लिए ही काम करेंगी।
2017 से भारत में प्रोडक्शन कर रही विस्ट्रॉन
विस्ट्रॉन एप्पल की वेंडर कंपनी है, जिसका प्लांट कर्नाटक में काम कर रहा है। कंपनी साल 2017 से ही भारत में आईफोन का प्रोडक्शन कर रही है। विस्ट्रॉन के भारतीय प्लांट में फिलहाल 1000 कर्मचारी हैं। कुछ दिन पहले ही कंपनी ने विस्तार की बात की थी। कंपनी अपने प्लांट के विस्तार के लिए 2,900 करोड़ रुपए का निवेश करने वाली है। विस्ट्रॉन हर महीने देश में दो लाख आईफोन बनाती है। वह इसे बढ़ाकर इस साल के अंत तक हर महीने चार लाख पर ले जाना चाहती है। बता दें कि आईफोन 12 अभी लांच नहीं हुआ है, लेकिन इसके भारत में प्रोडक्शन की चर्चा जोरों पर है। अभी जुलाई में ही आईफोन 11 को मेड इन इंडिया का तमगा मिला है। वहीं जल्द ही आईफोन एसई (2020) का भी प्रोडक्शन भारत में शुरू होने वाला है। एपल के पांच आईफोन मॉडल का प्रोडक्शन भारत में होता है।

Recent Posts

%d bloggers like this: