October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

टेरर फंडिंग मामले के आरोपी को राहत देने से इंकार छठी जेपीएससी परीक्षा के सभी मामलों को एक साथ सूचीबद्ध कर सुनवाई होगी

रांची:- झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति हरीश चंद्र मिश्रा और न्यायमूर्ति राजेश कुमार की खंडपीठ ने टेरर फंडिंग मामले में नक्सली बुरेदी नारायण को कोई भी राहत देने से इंकार कर दिया और याचिका को खारिज कर दिया। खंडपीठ ने सभी पक्षों को सुनने के उपरांत एन० आई० ए० के द्वारा पेश किए गए दलीलों को सही मानते हुए और एन०आई०ए० की विशेष अदालत के आदेश को सही मानते हुए किसी भी प्रकार की दखलअंदाजी करने से इनकार करते हुए अपीलार्थी को किसी भी प्रकार का राहत देने से इंकार किया और याचिका को खारिज कर दिया। झारखंड हाई कोर्ट के न्यायाधीश हरीश चंद्र मिश्रा और न्यायाधीश राजेश कुमार की अदालत ने अपने आवासीय कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से यह फैसला सुनाया। गौरतलब है कि नक्सली बुरदी नारायण को लाखों रुपैया और सोना के साथ गिरफ्तार किया गया था। उसी मामले में एनआईए ने उन्हें आरोपी बनाया है। उन्होंने हाई कोर्ट में अपील याचिका दायर की है, उसी अपील याचिका पर सुनवाई के दौरान अदालत ने दोनों पक्षों को के दलील को सुनने के बाद एनआईए के दलील पर अपनी संतुष्टि जताते हुए आरोपी को किसी भी प्रकार के राहत देने से इनकार कर याचिका खारिज कर दिया कर दिया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: