October 20, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

राजीव रंजन ने विपक्ष को लिया आड़े हाथों, बोले बिहार में सीएम पद कोई वेकैंसी नहीं, फिर सीएम बनेंगे नीतीश

पटना:- बिहार में विधानसभा चुनाव की तरीखों के ऐलान के साथ ही सियासी दलों के हमले प्रतिद्वंदी दलों पर तेज हो गए है। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने जनाधार विहीन विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि 2010 के विधानसभा चुनाव में एनडीए ने 206 सीट जीती और तब जदयू और भाजपा का गठबंधन था। फिर 2019 लोकसभा चुनाव में 40 में 39 सीटें एनडीए ने हासिल किए। आज चाहे किसी भी दल की ओर से नीतीश कुमार की आलोचना हो तो यह उसकी विवशता हो सकती है, विपक्ष में शामिल दल जो अपनी पार्टी के अस्तित्व बचाने के लिए नीतीश कुमार जी की आलोचना कर निरंतर सुर्खियों में बने रहना चाहते हैं। उनके विशेष अधिकार को चुनौती हम नहीं दे सकते हैं। लेकिन जमीनी सच्चाई यह है कि बिहार में विकास का जादू लोगों के सर चढ़कर बोल रहा है। बिहार का जिस तरफ से कायाकल्प हुआ है और जिस आधारभूत संरचनाओं को विकसित किया गया है वह अभूतपूर्व है। जिस तरह से बिहार में सड़कों का जाल बिछा है, 95000 किलोमीटर सड़कों का निर्माण हुआ है, 6000 पुलों का निर्माण हुआ है और अब राष्ट्रीय उच्च पथ के 9 परियोजनाओं के शिलान्यास के बाद निसंदेह यातायात की दिशा में देश के मानचित्र पर बिहार एक अमिट छाप छोड़ने वाला है। हर घर तक बिजली की उपलब्धता को सुनिश्चित किया गया, शराबबंदी के युगांतकारी एवं कालजयी फैसले ने बिहार की दिशा एवं दशा को ही बदल कर रख दिया। प्रसाद ने कहा कि इस फैसले से बिहार के गांवों की तस्वीर ही बदल गई तथा बिहार की महिलाओं के जीवन में एक अभूतपूर्व परिवर्तन आया। बिहार एक ऐसे ऊंचाई पर पहुंचा है, जिसकी कल्पना 2005 से पहले करना बेमानी मानी जाती थी। जिस बिहार पर फेल्ड स्टेट का धब्बा लगा था आज वह बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में नित्य नई ऊंचाइयों को छू रहा है। किसका क्या नजरिया है यह उसे देखना और तय करना है। लेकिन बिहार के जनता यह जानती है कि बिहार का कायाकल्प मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही संभव है इसीलिए आने वाले कई वर्षों तक बिहार में मुख्यमंत्री के लिए कोई वैकेंसी नहीं है।

Recent Posts

%d bloggers like this: