October 20, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जिले में खेल को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किये जाएंगे सक्रिय प्रयास : उपायुक्त

जिला प्रशासन की एक पहल, “सपनो की उड़ान” से बनेगा छात्राओं का उज्ज्वल भविष्य

सुदूरवर्ती क्षेत्रों को प्रगति की ओर अग्रसर करना हमारी प्राथमिकता– उपायुक्त

राँची:- उपायुक्त, श्री शशि रंजन(भा.प्र.से) द्वारा मासिक प्रेस सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस दौरान उन्होंने जिला अंतर्गत किये जा रहे नवोन्मेषी कार्यक्रमों के सम्बंध में विस्तृत जानकारी दी। साथ ही विकास कार्यों के सम्बंध में विस्तार से बताया गया।

प्रेस वार्ता के दौरान उन्होंने जानकारी दी कि जिले में खेल को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कई प्रयास किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि जिस प्रकार खेलो इंडिया के माध्यम से लोगों को खेल के प्रति प्रोत्साहित किया जा रहा है उसी प्रकार से जिले में भी खिलाड़ियों को प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विशेषकर हॉकी व फुटबाल खेलों में जिनमें खिलाड़ियों की रूचि अधिक हो उसे बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए खिलाड़ियों को कोचिंग, डाइटिंग(पोषण), स्वास्थ्य व अन्य सम्बन्धित सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। ताकि क्षेत्रीय स्तर पर भी खेल के क्षेत्र में लोग आगे आएं। उन्होंने बताया कि इसके लिए समिति का गठन कर विशेष अभियान चलाए जाने की योजना बनाई जाएगी। साथ ही इसमें रेड क्रोस सोसाइटी एवं हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर को जोड़ा जाना है। इससे रेड क्रोस सोसाइटी को क्रियाशील बनाया जाएगा एवं इन संयुक्त प्रयासों से खेल के क्षेत्र में खिलाड़ियों की भागीदारी व उनका बेहतर भविष्य भी सुनिश्चित किया जा सकता है।

इसी क्रम में उनके द्वारा बताया गया कि जल संरक्षण पर विशेष ध्यान केंद्रित करते हुए एवं सिंचाई व्यवस्था को सुदृढ करने के उद्देश्य से तजना नदी के आस-पास सिंचाई की व्यवस्था से सम्बंधित विस्तृत रिपोर्ट बनाई जा रही है जिसे भारत सरकार को प्रेषित किया जाएगा ताकि अग्रेतर कार्य किये जा सके।

आगे उन्होंने बताया कि सिकल सेल एनेमिया की जांच हेतु राष्ट्रीय टीमों की सहायता से जिलान्तर्गत जांच अभियान चलाए जाएंगे। ताकि ससमय ग्रसित लोगों का ईलाज कराया जा सके। इसके साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि जिले में “लैब ऑन व्हील” के माध्यम से लोगों को बेहतर ईलाज की सुविधा मुहैया कराने का उद्देश्य है। इसमें सभी प्रकार की जांच यथा आंख, दांतों से सम्बंधित समस्या व अन्य बीमारियों के लिए उपचार उनके क्षेत्रों तक पहुंच सकता है।

उपायुक्त द्वारा बताया गया कि सिनी व प्लान इंडिया के सहयोग से क्लास 7वीं, नवमी व दशवीं की छात्राओं एवं कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की बच्चियों को किताबों और शिक्षण सामग्री के साथ-साथ सेनीटाइजेशन की आवश्यक वस्तुएं भी उपलब्ध कराए गए हैं। इसमें अब तक कुल 876 छात्राओं के बीच वितरण किया जा चुका है।

लेमनग्रास की खेती:- उपायुक्त द्वारा बताया गया कि खूँटी जिले में 100 एकड़ में लेमनग्रास की खेती करने के लिए जिला प्रशासन ने सेवा वेलफेयर सोसाईटी के साथ एमओयू किया है। साथ ही जेएसएलपीएस के माध्यम से भी 100 एकड़ में लेमनग्रास की खेती की जाएगी। साथ ही जिले के खूंटी प्रखंड अंतर्गत मारंगहादा और मुरहू प्रखंड के सुरूंदा गांवों में आसवन केंद्र लगाने की प्रक्रिया जारी है।

सपनो की उड़ान- उपायुक्त ने जानकारी दी कि आकांक्षी जिला कार्यक्रम के तहत खूंटी के छात्र-छात्राओं को उज्ज्वल भविष्य की ओर अग्रसर करने के उद्देश्य से एक अनोखी पहल की गई है। इस पहल में सपनो की उड़ान कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए जिले के छात्रों के लिए सुदृढ शिक्षण व्यवस्था सुनिश्चित करने का प्रयास है। इसके साथ ही छात्राओं को आई.आई.टी व मेडिकल की सिलेबस, वीडियोस व शिक्षण सामग्रियां भी उपलब्ध कराई जाएंगी। इस मुहिम के माध्यम से छात्राओं को अन्य आई.आई.टी प्रोफेसर व जानकारों से ऑनलाइन क्लास के जरिये जोड़ा जाएगा। इसके लिए निर्धारित निविदा समिति के अनुसंशा के आलोक में खूँटी जिला के कस्तुरबा गाँधी बालिका विद्यालय, कर्रा मुरहू, रनियां, एवं अड़की के 11वीं एवं 12वीं की 30 छात्राओं को भौतिक,रसायन, जीव विज्ञान एवं गणित विषयों में सुदृढ़ करते हुए आई0टी0आई0 एवं मेडिकल परीक्षा में उत्तीर्ण कराने के उद्देश्य से आॅनलाई/आॅफलाईन शिक्षा Vidya Mandir Clases, New Delhi के द्वारा प्रदान की जायगी। इन छात्राओं को जिला प्रशासन द्वारा अपेक्षित सहयोग कर उन्हें आई.आई.टी व मेडिकल की तैयारियों के लिए अग्रसर किया जाएगा।

बोरीबांध– उन्होंने बताया कि खूंटी जिला प्रशासन की बोरीबांध मॉडल को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया है। राष्ट्रीय जलशक्ति मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा खूंटी के बोरीबांध मॉडल को राष्ट्रीय जलशक्ति पुरस्कार दिया गया है। साथ ही सचिव द्वारा इन प्रयासों की सराहना की गई है।

खूंटी फ़ूड बैंक– आगे उपायुक्त द्वारा बताया गया कि गरीब, असहाय व जरूरतमंदों तक पहुंच बनाने के उद्देश्य से जिला प्रशासन, खूंटी द्वारा अनोखी पहल की गयी है। फीडिंग इण्डिया व इंडियन रोटी नामक एन.जी.ओ के सहयोग से होटलों और शादी पार्टी में प्रतिदिन काफी मात्रा में भोजन व नास्ता बच जाता है, जिसे अक्सर फेंक दिया जाता है इस भोजन को फूड बैंक में स्टोर करते हुए जरूरतमंदों के बीच भोजन वितरित कर उन तक फूड बैंक की सहायता से भोजन पहुंचाया जाएगा।

इसी कड़ी में उपायुक्त द्वारा बताया गया कि जिले के सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से कार्यों के अनुश्रवण/पर्यवेक्षण के लिए प्रखंडवार नामित पदाधिकारियों द्वारा लागातार क्षेत्र भ्रमण कर विकास योजनाओं का निरीक्षण जारी है।
इसके साथ ही सुदूरवर्ती क्षेत्रों के विकास हेतु विशिष्ट प्रयास किये गए हैं, एटकेडिह गाँव में ग्राम सभा की बैठक में गाँव में विकास कार्यों- शहीद ग्राम योजना, आवास शौचालय, बिजली, पानी, रोजगार योजनाओं की समीक्षा की गयी। साथ ही उलिहातु ग्राम में अनुमंडल पदाधिकारी, श्री हेमन्त सती के नेतृत्व में ग्राम सभा का आयोजन किया गया। शाहिद ग्राम आवास योजना के तहत कुल 96 आवेदन प्राप्त हुए हैं। जिसमें निर्माण का कार्य प्रारंभ करने हेतु अग्रतर कार्रवाई की जा रही हैं। साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सुदूरवर्ती क्षेत्रों के लगभग 60 लाभुकों को जोड़ा गया है।

जे.एस.एल.पी.एस–
NRLM के वित्तीय समावेश्ण के तहत इस वित्तीय वर्ष में 500 समूहों को 10 करोड़ 92 लाख रूपए मुहैया कराई गयी है। जोहार परियोजना के तहत 11379 किसानों का आजीविका संवर्धन किया जा चुका है व उत्पादक समूहों को 10.85 करोड़ रू हस्तांतरित किया जा चुका है। एन. आर. एल. एम. के तहत 20703 महिलाओं को आजीविका के वैकल्पिक संसाधनों से जोड़ा जा चुका है। महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना के अन्तर्गत 1700 किसानों ने पहली बार तसर की खेत की है।

प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण)– प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण आवास की स्वीकृति में खूंटी जिला पूरे राज्य में प्रथम स्थान पर है।वित्तीय वर्ष 2020-21 में प्राप्त लक्ष्य 100 में से 74 लाभुकों को आवास की स्वीकृती दी गई है।

मनरेगा– खूँटी जिला अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 में मनरेगा के तहत् कुल 58848 कार्यरत जाॅब कार्ड है, जिसमें कुल 29217 परिवारों को काम दिया गया है। जिले का माह सितम्बर तक अनुमोदित मानव दिवस 1339141 के विरूद्ध 23 सितम्बर 2020 तक 879851 मानव दिवस सृजित किया गया है। मनरेगा अंतर्गत खूँटी जिला में शतप्रतिशत मजदूरी भुगतान ससमय किया जा रहा है। मनरेगा में आजीविका को बढ़ाने हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 में बिरसाहरित ग्राम योजना (बागवानी) के तहत कुल क्षेत्रफल 2026.52 (एकड़) में आमबागवानी किया जा रहा है जिस में कुल 2820 लाभुक लाभांवित होंगे। मनरेगा अंतर्गत खूँटी जिला में वित्तीय वर्ष 2020-21 में कुल 3590 योजना पूर्ण है शेष 17806 योजनाओं पर कार्य चल रहा है।

इसी क्रम में उन्होंने बताया कि खूंटी में बन रहे 72.58 एकड़ भूमि पर निमार्णधीन रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय का अनुमंडल पदाधिकारी हेमंत सती और एसपी आशुतोष शेखर के नेतृत्व में रक्षा विश्वविद्यालय के कुलपति आर के नायडू ने मुआयना किया जा चुका है।

जिला योजना कार्यालय–
आकांक्षी जिला योजना मद से खूँटी जिला के 15 ग्रामों में पाईप लाईन जलापूर्ति योजना का कार्य कराया गया है।जिला के विभिन्न 52 विद्यालयों में सोलर आधारित जलापूर्ति योजना का कार्य कराया गया है। जिला के 100 माॅडल आँगनबाड़ी केन्द्रों में गर्भवती माताओं के स्वास्थ्य जाँच हेतु बेड उपलब्ध कराया गया है। जिला के 17 उच्च विद्यालयों तथा 21 मध्य विद्यालयों में टैब लैब (CG Slate Learning app) का अधिष्ठापन का कार्य कराया गया है, जिसके अन्तर्गत टैब लैब (CG Slate Learning app) में झारखण्ड शिक्षा बोर्ड का पाठ्यक्रम सम्मिलित है, जिससे विद्यार्थी बेहतर ढंग से पठन-पाठन का कार्य सरलता पूर्वक कर पा रहे हैं।
साथ ही मधुमक्खी पालन हेतु खूँटी जिला के 100 मधुपालक किसानों के बीच 1000 मधुमक्खी बक्सा, 1000 मधु छत्ता, 07 मधु निष्कासन यंत्र एवं 100 बी-वेल उपलब्ध कराया गया है, जिससे वे मधुमक्खी पालन कर अपने आजीविका को ऊपर उठा रहे हैं। इसके अतिरिक्त पुनः 33 मधुपालक किसानों के बीच मधुमक्खी बक्सा, मधु छत्ता, मधु निष्कासन यंत्र एवं बी-वेल उपलब्ध कराने हेतु अग्रेतर कार्रवाई की जा रही है।
खूँटी, मुरहू, तोरपा एवं अड़की प्रखण्ड के 400 किसानों के लिए मशरूम उत्पादन हेतु प्रशिक्षण, उत्पादन सामग्री एवं बाजार व्यवस्था उपलब्ध कराई जा रही है, जिससे वे मशरूम का उत्पादन कर अपने आजीविका को ऊपर उठा रहे हैं। विशेष केन्द्रीय सहायता मद से सिंचाई प्रक्षेत्र अन्तर्गत विभिन्न ग्रामों में 17 योजनाओं यथा- चेकडैम निर्माण, मध्यम सिंचाई योजना का जीर्णोद्धार, नहर निर्माण, बाँध जीर्णोद्धार, नहर निर्माण, माईक्रोलिफ्ट सिंचाई योजना का कार्य में से 16 योजनाओं का कार्य पूर्ण हो चुका है 01 योजना में कार्य प्रगति पर है। खूँटी जिला के आमजनों को स्वास्थ्य मानकों/खेल-कूद व व्यायाम के प्रति युवाओं को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ खेल-कूद प्रतियोगिताओं के लिए सबल बनाने हेतु खूँटी जिला के विभिन्न 38 स्थानों में व्चमद ळल्ड के उपकरणों अधिष्ठापन किया गया है।

जिला आपूर्ति– उन्होंने जानकारी देने के क्रम में बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अद्यिनियम अंतर्गत:-राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अद्यिनियम अंतर्गत पात्र गृहस्थ योजनान्तर्गत कुल65899 परिवारों को प्रति सदस्य 5 किलो ग्राम एवं अंत्योदय अन्न योजनान्तर्गत. 32565 परिवारों को प्रति परिवार को 35 किलो ग्राम खाद्यान्न 1 रू0 की अनुदानित दर पर प्रतिमाह उपलब्ध कराया जा रहा है तथा च्डळज्ञ।ल् योजनान्तर्गत पात्र गृहस्थ योजना/अंत्योदय अन्न योजना के लाभुकों को माह अगस्त 2020 तक प्रति सदस्य 05 किलो ग्राम खाद्यान्न मुफ्त में वितरण किया जा चुका है एवं माह सितम्बर 2020 का वितरण जारी है।

झारखण्ड राज्य खाद्य सुरक्षा योजना:- राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 से अनाच्छादित सुपात्र 15 लाख लाभुकों को राज्य सरकार के मापदण्ड पर प्रासंगिक संकल्प के माध्यम से “झारखण्ड राज्य खाद्य सुरक्षा योजना” के तहत् एक रूपये प्रति किलो ग्राम की दर से 05 किलो ग्राम खाद्यान्न (चावल) प्रति लाभुक प्रति माह की दर से उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है।उक्त योजना के तहत् खूँटी जिलान्तर्गत कुल लक्ष्य 24185 निर्धारित है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजनाः- प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजनान्र्तग वित्तीय वर्ष 2020-21 में विभिन्न योजनाओं यथा मत्स्य उत्पादन हेतु नयी तकनीक बायोफ्लाॅक सिस्टम हेतु 02 प्रस्ताव, मत्स्य पालन से जुडे़ व्यक्तियों के लिए मछली के खरीद -बिक्री हेतु तीन पहिया वाहन/दो पहिया वाहन/साइकिल आईसबाॅक्स के साथ उपलब्ध कराने की योजना हेतु 47 प्रस्ताव तथा रंगीन मछली पालन योजना का प्रस्ताव पर स्वीकृति जिला स्तरीय समिति द्वारा प्रदान की गई। केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तावित योजना हेतु राशि उपलब्ध कराए जाने के उपरान्त योजनाओं का क्रियान्वयन कराया जाएगा।
इसके साथ ही जिले के तोरपा प्रखण्ड में मत्स्य पालन करने के इच्छुक आर्थिक रूप से कमजोर किसानों के बीच लगभग 65 क्विंटल मत्स्य आहार का वितरण किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत प्रत्येक घर को नल से जल देने हेतु इस वित्तिय वर्ष में 110 अदद ग्रामों का चयन करते हुए ग्राम सभा के माध्यम VAP (Village Action Plan) तैयार किया जा रहा है।
LOB के तहत प्राप्त कुल लक्ष्य- 1000 के विरूद्ध 1000 शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण है। साथ ही
NOLB के तहत प्राप्त कुल लक्ष्य- 8612 के विरूद्ध 8028 शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा भी यदि शौचालय ना बनने से सम्बंधित जानकारी प्राप्त होती है तो उसे प्राथमिकता समझते हुए पूर्ण कराया जाएगा।

इसी कड़ी में उन्होंने जिले में कोरोना वायरस से रोकथाम के मद्देनजर किये जा रहे कार्यों के सम्बंध में जानकारी दी गयी।

अबतक कुल कोविड-19 टेस्ट की संख्या(RT-PCR)- 12560
अबतक कुल कोविड-19 टेस्ट की संख्या (ट्रूनेट)- 11224
अबतक कुल कोविड-19 टेस्ट की संख्या(रेपिड एंटीजेन) 18795
अबतक कोविड-19 से कुल संक्रमितों की संख्या:- 1434
अबतक कुल कोविड-19 से संक्रमित स्वस्थ्य व्यक्तियों की संख्या:- 1098
संक्रमण से मृत व्यक्तियों की संख्या:- 4
कुल सक्रिय केस की संख्या :- 332
TPM काउंट- 63809

उन्होंने बताया कि जिला अंतर्गत कोरोना जांच में तेजी आई है। इसके लिए प्रखण्डवार गठित टीमों द्वारा प्रतिदिन सैम्पल कलेक्शन जारी है। साथ ही सभी प्रखण्डों में भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निदेशों का प्रचार-प्रसार जारी है। आगे उन्होंने बताया कि जिला अंतर्गत अब यदि कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया जाता है परंतु उनमें कोरोना के लक्षण नहीं हैं तो ऐसी स्थिति मे सम्बन्धित व्यक्ति को कोविड अस्पताल व डीसीएचसी में भर्ती किया जाना अनिवार्य नहीं है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन की टीम उन तक पहुंचकर उन्हें निर्धारित फॉर्म के माध्यम से पंजीकृत करेंगे। साथ ही उन्हें दवाएं व अन्य जरूरी चीजों के साथ-साथ होम क्वारेंटाइन के नियम की जानकारियां भी उप्लब्ध कराई जाएंगी।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि एरेंडा स्थित कोविड अस्पताल में उत्क्रमित 10 बेड आई.सी.यू बनाया गया है। उक्त आई.सी.यू में पर्याप्त संख्या में ऑक्सिजन सिलेंडर हैं। साथ ही ऑक्सिजन कंसेंट्रेटर मशीन, नए वेंटिलेटर, सक्सेशन मशीन, कार्डिएक मॉनिटर व कुल 10 बेड की व्यवस्था की गई है। जिला प्रशासन का प्रयास है कि जिले में कोरोना वायरस से बचाव हेतु हर स्तर पर व्यवस्थाओं को सुनिश्चित कराया जाय।

Recent Posts

%d bloggers like this: