October 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

‘कांग्रेस को कभी भी धोखा दे सकती है शिवसेना’, संजय निरूपम ने जताई संभावना

मुंबई:- शिवसेना नेता सांसद संजय राउत और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात के बाद सियासी गलियारे में कई तरह की चर्चा होने लगी है। कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने भी संजय राउत पर निशाना साधा है। निरुपम ने राजनीतिक व्यभिचार करार देते हुए आशंका जताई है कि कांग्रेस ने अपने विचार, धर्म, व्यवहार सबकुछ छोड़कर सत्ता के लिए जिसके साथ भागीदारी की है, वह शिवसेना कांग्रेस को कभी भी धोखा दे सकती है। उन्होंने कहा, ‘जब एक सत्तारूढ़ पार्टी का नेता ऐसे नेता से मिलता है जिसके खिलाफ बगावत की जा रही थी तो ऐसे में और क्या तर्क निकाला जाए। सवाल तो उठेगा ही।’निरुपम ने आगे कहा, “शिवसेना का स्वभाव यही है। जब कांग्रेस किसान बिल का विरोध करती है तब मुख्यमंत्री स्वयम इस बिल का समर्थन कर करते है। संजय राउत जिसके खिलाफ इतना उछल-उछल कर हर चीज के लिए आगे आकर बोलते थे, आज उनका इंटरव्यू लेना चाहते हैं। केवल इंटरव्यू के लिए इतनी लंबी मुलाकात इसका मतलब यही है कि कुछ ‘पक’ रहा है। कहीं पर निगाहें और कहीं पर निशाना है शिवसेना का।” निरुपम ने कहा, ‘कांग्रेस इस सरकार में आकर फंस गई है। शिवसेना के साथ ज्यादा नहीं चलेगी। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए वे निजी स्वार्थ के साथ आए हैं।’ निरुपम ने कहा, ‘मोदी सरकार के किसान बिल का संसद के दोनों सदनों में कांग्रेस और एनसीपी ने विरोध किया है। मगर शिवसेना प्रमुख और राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसका समर्थन किया है।’ संजय निरुपम ने कहा, “महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए साथ आए है। शिवसेना ने कांग्रेस को कभी अपने साथ नहीं रखा है। क्या आपने देखा है कभी शिवसेना के पोस्टर में सोनिया गांधी या राहुल गांधी का फोटो लगाया हो। अभी भी मौका है संभल जाए।” वहीं संजय राउत का कहना है कि ये मुलाक़ात सामना के लिए देवेंद्र फडणवीस के इंटरव्यू के लेकर थी। लेकिन सवाल ये है कि अगर एक पत्रकार के नाते संजय फडणवीस से मिलने गए थे तो फिर ये मुलाकात एक होटल के बंद कमरे में क्यों की गई? संजय राउत ने कहा कि क्या देवेंद्र फडणवीस से मिलने कोई गुनाह है? क्या मैं उनसे मिल नहीं सकता? आप लोग इस मुलाक़ात का कोई भी अर्थ निकाल लें लेकिन हमारी मुलाक़ात सामना इंटरव्यू पर चर्चा करने के लिए थी? बता दें कि मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम शुरू से ही शिवसेना के साथ मिलकर कांग्रेस की सरकार बनाने के फैसले के खिलाफ रहे हैं। कांग्रेस में आने से पहले निरुपम शिवसेना में ही थे, लेकिन अब वह शिवसेना के खिलाफ काफी आक्रामक हैं। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के गठबंधन वाली महाविकास अघाड़ी सरकार बनने के बाद देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच शनिवार को मुलाकात हुई। दोनों की मुलाकात मुंबई के एक होटल में हुई थी, जिसके बाद से राज्य की सियासत में हलचल मच गई।

Recent Posts

%d bloggers like this: