October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

राजस्थान हिंसा: पुलिस फायरिंग में एक की मौत, कई घरों के शीशे तोड़े, वाहन फूंके, रात भर सहमे रहे लोग

डूंगरपुर:- डूंगरपुर और उदयपुर के खेरवाड़ा में चल रहा प्रदर्शन रविवार सुबह थोड़ा शांत रहा। खेरवाड़ा में प्रदर्शनकारी पहाडिय़ों पर बैठ गए हैं। डूंगरपुर के पास दोवड़ा में सुबह करीब 4 बजे एक गाड़ी में आग लगा दी गई। प्रदर्शनकारियों ने हाइवे अब भी बहाल नहीं होने दिया है। देर रात कुछ उपद्रवी हाइवे के पास बनी श्रीनाथ कॉलोनी में घुस गए जहां तोड़फोड़ की गई। कई घरों के शीशे तोड़ दिए गए। साथ ही कार और बाइक को आग के हवाले कर दिया गया जिससे लोग रातभर डर के साये में रहे। खेरवाड़ा व डूंगरपुर में इंटरनेट सेवा पहले से बंद है। शनिवार को ऋषभदेव में भी बंद कर दी गई। उदयपुर जिले में धारा-144 भी लगा दी गई है। उधर, हिंसा को देखते हुए उदयपुर की गोगुंदा व सराड़ा पंचायत में 28 व 29 सितंबर को होने वाले पंचायत चुनाव स्थगित कर दिए गए हैं। यहां सुरक्षा के लिए 40 हथियारबंद पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। तोडफ़ोड़, राष्ट्रीय राजमार्ग को बाधा पहुंचाने, आगजनी और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने जैसे 16 मामलों में कुल 3300 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। साथ ही अब तक 34 लोगों की गिरफ्तारी दिखाई गई है। डूंगरपुर और उदयपुर का खेरवाड़ा शनिवार रात भी खौफ में रहे। शिक्षक भर्ती में अनारक्षित पद एसटी अभ्यर्थियों से भरने की मांग को लेकर लगातार तीसरे दिन उग्र आंदोलन जारी रहा। डूंगरपुर से महज 10 किमी दूर कच्छवाासा व वस्सी गांव के पास उपद्रवियों ने पहाडिय़ों से पथराव किया। तीन बाइकें जला दीं। दुकान में लूटपाट की। कांकरी डूंगरी के पास उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर 60 घंटे से काबिज उपद्रवियों ने 20 किमी में पत्थर बिछा दिए हैं। कांकरा डूंगरी से शनिवार शाम सवा चार बजे उपद्रवी एक बार फिर पुलिस को पथराव के जरिये पीछे धकेलते हुए उदयपुर के खेरवाड़ा में घुस आए और आधे कस्बे को घेर लिया। एक होटल में तोडफ़ोड़ की। दुकानों में आगजनी व लूटपाट को अंजाम दिया। पीछे हटी पुलिस ने आक्रामक रुख दिखाया और आंसू गैस के गोले दागते हुए उपद्रवियों को खदेडऩा चाहा, लेकिन वे काबू में नहीं आए तो तीन राउंड फायरिंग की। इसमें खेरवाड़ा के काचराफला घाटा निवासी तरुण अहारी (19) की सीने में गोली लगने से मौत हो गई, जबकि पोगराफला निवासी अल्पेश (15) घायल हो गया। मामला कुछ शांत हुआ, लेकिन रात करीब एक बजे उपद्रवी फिर उग्र हो गए और पूरे खेरवाड़ा कस्बे को घेर लिया। टोल प्लाजा पर पथराव किया। खेरवाड़ा व डूंगरपुर में इंटरनेट सेवा पहले से बंद है। शनिवार को ऋषभदेव में भी बंद कर दी गई। उदयपुर जिले में धारा-144 भी लगा दी गई है। उधर, हिंसा को देखते हुए उदयपुर की गोगुंदा व सराड़ा पंचायत में 28 व 29 सितंबर को होने वाले पंचायत चुनाव स्थगित कर दिए गए हैं। आंदोलन के बढ़ते तांडव को थामने के लिए देर रात सीएम अशोक गहलोत ने मीटिंग की और डीजी क्राइम एमएल लाठर, एसीबी के एडीजी दिनेश एमएन व जयपुर कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव सहित अन्य आईपीएस अफसरों को मौके पर भेजा। जयपुर पुलिस कमिश्नर आनन्द श्रीवास्तव और एडीजी एसीबी दिनेश एमएन के अलावा कई अफसरों को डूंगरपुर भेजा गया है। आरएसी की तीन कंपनियां भी भेजी हैं। इधर, सरकार ने केंद्र से रैपिड एक्शन फोर्स मांगी है।

Recent Posts

%d bloggers like this: