October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

श्रीकृष्ण जन्मभूमि की मुक्ति के लिए करना होगा बड़ा आंदोलन, काशी भी अभी बाकी :विनय कटियार

इक़बाल अंसारी ने कहा अब बंद हो मंदिर-मस्जिद की राजनीति, यह आगे बढ़ने का समय

अयोध्या:- भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा है कि जिसने भी श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्त कराने के लिए याचिका दायर की है, उसने अच्छा काम किया है। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्णजन्मभूमि को मुक्त कराने के लिए बड़ा आंदोलन खड़ा करने की जरूरत है। इसे मुक्त कराने के लिए कोर्ट का रास्ता अख्तियार करना है या आंदोलन शुरु करना है, इस पर निर्णय लेना होगा। उन्होंने कहा श्रीकृष्ण जन्म भूमि ही नहीं, काशी का मामला भी बाकी है। दूसरी ओर, अयोध्या मामले में बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि देश के विकास के लिए मंदिर-मस्जिद की राजनीति खत्म होनी चाहिए।
विनय कटियार ने कहा श्रीकृष्ण विराजमान के पक्ष में दाखिल याचिका एक सराहनीय कदम है, जहां कृष्ण का जन्म हुआ उस गर्भ गृह पर मस्जिद है। उसका रास्ता कृष्ण जन्मभूमि से होकर जाता है। जिस पर दूसरे संप्रदाय के लोगों ने बलपूर्वक कब्जा कर लिया है। जिसे मुस्लिम पक्ष ईदगाह बोलता है वह हिंदुओं का है। विनय कटियार ने कहा कि बिना किसी आंदोलन के प्रशासन नहीं जागेगा। अभी अंदर के हिस्से की लड़ाई बाकी है। यहां पर लड़ाई लड़नी है। यह कब्जे की लड़ाई है। इस लड़ाई की रूपरेखा पर बोलते हुए विनय कटियार ने कहा कि अदालत से लड़ा जाए या आंदोलन चालू किया जाए, जो भी आवश्यकता होगी वह किया जाएगा।
विनय कटियार ने कहा कि इस पर व्यापक आंदोलन खड़ा किया जाना चाहिए। इस आंदोलन में भाजपा राजनीतिक पार्टी है, वह अपना काम करेगी। तमाम संगठन भी हैं जो काम करेंगे। विनय कटियार ने कहा कि हमारा पूर्व में भी दावा था कि तीन स्थानों को मुक्त कराना है। जिसमें अयोध्या, मथुरा और काशी शामिल था। अयोध्या पर विजय प्राप्त हो चुकी है और मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो चुका है, लेकिन मथुरा और काशी बाकी है। दोनों में से किसके लिए पहले लड़ाई है इस पर विचार विमर्श किया जाएगा।
दूसरी ओर, अयोध्या में बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने कहा है कि यह हिंदू और मुस्लिम की राजनीति करने वाले लोग इस मामले को बेवजह तूल दे रहे हैं। इकबाल अंसारी ने कहा कि हम हिंदू और मुसलमान के बीच विवाद नहीं चाहते। इकबाल अंसारी ने कहा कि चंद लोग ऐसे हैं जो मंदिर और मस्जिद के विवाद को चलाते रहना चाहते हैं, जिससे कि उनकी रोजी-रोटी चलती रहे। इकबाल ने कहा कि जिस दिन हिंदू और मुसलमान का विवाद हमारे देश में नहीं रहेगा तो दुनिया में हिंदुस्तान का नाम शिखर पर होगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: