October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

चीनी पत्रकार का दावा/ उइगर मुस्लिमों की पहचान खत्म करना चाहता है चीन

नई दिल्ली:- चीनी हुकूमत का मुसलमानों पर ज़ुल्म पर बढ़ता ही जा रहा है और उसके ज़रिए की जा रही हरकतों से धीरे-धीरे पर्दा उठ रहा है। एक ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक ने जुमा के रोज़ एक रिपोर्ट जारी कर कहा कि कहा कि चीन में अब तक हज़ारों मस्जिदों को गिराया जा चुका है। चीन की शी जिनपिंग हुकूमत ने शिंजियांग सूबे में लगभग 16 हज़ार से ज्यादा मस्जिदों को ढहा दिया है। वहीं, अमेरिका स्थित रेडियो फ्री एशिया (आरएफए) के लिए काम करने वाली पत्रकार गुलछेहरा होजा ने चीन को लेकर बड़ा खुलासा किया है। होजा ने कहा, चीन सरकार का एकमात्र मकसद उइगर मुस्लिमों की सांस्कृतिक, भाषाई और अन्य पहचान को पूरी तरह खत्म करना है। उन्होंने कहा, चीन सरकार ने मेरे अमेरिका में काम करने पर परिजनों और दोस्तों को काफी परेशान भी किया। ओस्लो फ्रीडम फोरम नामक मानवाधिकार फाउंडेशन में बोलते हुए होजा ने कहा कि जबसे उन्होंने आरएफए के लिए काम करना शुरू किया है तब से वह अपने घर नहीं लौट सकी हैं। होजा चीन के शिनजियांग में सरकारी टीवी में काम करती थीं लेकिन उइगर मुस्लिमों के खिलाफ चीनी सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान की वजह से उन्होंने नौकरी छोड़ दी और अमेरिका चली आईं। होजा ने बताया, जब 2001 में मैंने यूरोप की यात्रा की थी तो पहली बार मैंने उइगर मुस्लिमों के अनकही दास्तां के बारे में रेडियो फ्री एशिया में सुना था। मुझे अचानक अपनी नौकरी का अहसास हुआ जिसका पत्रकारिता से भी कुछ नाता था। नौकरी पर रहते हुए मुझे अपने ही लोगों के खिलाफ झूठ बोलने को लेकर पछतावा है और मुझे लगता है कि चीन सरकार ने मेरा इस्तेमाल किया। फिर मैं चीन से बचकर निकली और अमेरिका से काम करना शुरू कर दिया। साथ ही होज ने यह भी बताया कि अमेरिका में रेडियो कार्यक्रम के लिए काम करने के कारण चीन सरकार ने न सिर्फ मेरे परिजनों व दोस्तों को परेशान किया बल्कि उन्होंने मुझे मुंह बंद रखने की धमकी भी दी। होजा ने कहा कि चीन के 1.8 मिलियन लोगों को चीन ने कैद करके रखा हुआ है। उन्होंने ने कहा कि चीन का तानाशाही रवैया पूरी तरह उइगरों को कुचलने पर आमदा है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटिजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (ASPI) की रिपोर्ट के मुताबिक चीन की कम्युनिस्ट पार्टी पर वीगर मुस्लिमों के खिलाफ जुल्म करने के इल्ज़ामात लगाए हैं। यहां पर मुहाजिर कैंपों में रह रहे लोगों के साथ चीन बेहद ज़ालिमाना और गैर इंसानी सलूक कर रहा है। इस इलाके में इंसानी हुकूक की खिलाफवर्ज़ी की जा रही है औब अब तक करीब 16 हज़ार मस्जिदों को गिरा दिया गया है। यह रिपोर्ट सैटेलाइट इमेज और स्टैटिकल मॉडलिंग पर की बुनियाद पर है। रिपोर्ट में बताया गया है कि ज्यादातर मस्जिदों को पिछले तीन सालों में गिराया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक कई ऐसी मस्जिदें भी हैं जिनकी गुंबदों और मीनारों का बुरी तरह से नुकसान पहुंचाया गया है। हालांकि अभी भी शिनजियांग में 15500 मस्जिदें आबाद हैं। शिनजियांग सूबे को लोगों पर रिवायती और मज़हबी सरगरमियों को छोड़ने का दबाव बनाया जा रहा है।

Recent Posts

%d bloggers like this: