October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

चार साल में किया करोड़ों का घोटाला

रांची:- झारखंड में महज चार साल के भीतर लोगों को जमीन व मकान का सपना दिखाकर करोड़ों की ठगी कर फरार संजीवनी बिल्डकॉन के प्रबंध निदेशक जयंत दयाल नंदी को जमीन निगल गई या आसमान खा गया? वर्ष 2012 में घोटाला उजागर होने के बाद झारखंड पुलिस के बाद केंद्रीय जांच एजेंसियां सीबीआइ व प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) आठ साल से जयंत दयाल नंदी की तलाश कर रही है। वह कहां है, अब तक पता नहीं चल सका है। इसे लेकर जांच एजेंसियां आधा दर्जन बार रेड कॉर्नर नोटिस व लुक आउट नोटिस जारी कर चुकी है। लेकिन अब तक न तो जेडी नंदी पकड़ा गया और न ही निदेशक पीपी लाला। वर्ष 2008 से 2012 के बीच करोड़ों की हेराफेरी करने वाला जेडी नंदी कभी दो दर्जन बाउंसर लेकर चलता था। जयंत दयाल नंदी की दोनों पत्नियां गिरफ्तार कर जेल भेजी गई थी, जाे जमानत पर बाहर हैं। इसी तरह निदेशक श्याम किशोर गुप्ता भी गिरफ्तार किए गए थे। गुप्ता पर 3.11 करोड़ रुपये के मनी लाउंड्रिंग का आरोप है।संजीवनी बिल्डकॉन मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने इसी वर्ष 64.45 करोड़ रुपये के मनी लाउंड्रिंग एक्ट में कंपनी के आठ पदाधिकारियों-सदस्यों पर चार्जशीट दाखिल किया है। जिनपर चार्जशीट दाखिल हुई है, उनमें कंपनी के प्रबंध निदेशक जयंत दयाल नंदी, उनकी दो पत्नियां अनामिका नंदी व अनिता दयाल नंदी, कंपनी के निदेशक सह स्मार्ट पीपुल्स डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक श्याम किशोर गुप्ता, स्मार्ट पीपुल्स डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक राम प्रताप वर्मा, निदेशक प्रकाश प्रसाद लाला, संजीवनी बिल्डकॉन व स्मार्ट पीपुल्स डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: