October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राष्ट्रीय भूमि बैंक हो रहा तैयार : महेश पोद्दार

रांची : कोरोना की वजह से वैश्विक स्तर पर निर्मित नए व्यापारिक परिदृश्य में भारत को दुनिया की फैक्ट्री और व्यापार का सबसे आकर्षक केंद्र बनाने के लिए मोदी सरकार प्रतिबद्ध है| दुनिया भर के निवेशकों को आकर्षित करने के लिए भारत सरकार राष्ट्रीय भूमि बैंक बनाकर इससे सम्बंधित जानकारियां ऑनलाइन उपलब्ध कराने की दिशा में काम कर रही है, ताकि दुनिया के किसी भी कोने से निवेशक अपने निवेशा की जरूरतों के मुताबिक़ जमीन की उपलब्धता के बारे में जानकारी ले सकें| राज्यसभा में सांसद महेश पोद्दार के एक प्रश्न का उत्तर देते हुए वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रीपीयूष गोयल ने यह जानकारी दी|

श्री गोयल ने बताया कि दुनिया में कहीं भी स्थित निवेशकों को भूमि की उपलब्‍धता और भूखंड स्‍तरीय जानकारी रियल टाइम बेसिस पर उपलब्‍ध कराने के लिए सरकार ने पहले चरण में औद्योगिक सूचना प्रणाली (आईआईएस) को छ: राज्‍यों के जीआईएस सिस्‍टम के साथ एकीकृत किया है।राष्‍ट्रीय भूमि बैंक बनाने के लिए केंद्र सरकार ने भूखंड स्‍तरीय जानकारी सहित औद्योगिक भूमि, वहां तक की संपर्क सुविधा, मूलभूत सुविधाओं, अन्‍य उपलब्‍ध सुविधाओं का ब्‍यौरा और पार्क के प्राधिकरणों/डेवलपर्स की संपर्क जानकारी मांगी है।

झारखंड भी भूमि बैंक/जीआईएस सिस्‍टम को आईआईएस पोर्टल के साथ एकीकृत करने के दूसरे चरण में शामिल आठ राज्‍यों में से एक है। झारखण्ड ने पोर्टल पर पहले ही भूमि संबंधी आंकड़े मैनुअली अपलोड किए हैं लेकिन झारखण्ड को अभी भी अपना पोर्टल दोनों प्रणालियों के स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग सिस्टम (एसओपी) के अनुसार ढ़ालना है। झारखंड राज्‍य की तकनीकी टीम एमईआईटीवाई की टीम के साथ संपर्क में है जो आईआईएस के तहत जीआईएस आधारित राष्‍ट्रीय भूमि बैंक के विकास में सहायता कर रही है। श्री गोयल ने बताया कि भूमि संबंधी ब्‍यौरे अपलोड करने के लिए सरकारी एजेंसियों को विशेष यूजर आईडी और पासवर्ड दिया गया है। अन्‍य निवेशक https://iis.ncog.gov.in/parks पर जा सकते हैं और यूजरनेम और पासवर्ड बनाकर आसानी से पंजीकरण करा सकते हैं तथा पोर्टल पर उपलब्‍ध जानकारी देखने के लिए लॉग-इन कर सकते हैं।  

Recent Posts

%d bloggers like this: