October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

औषधि नियंत्रण विभाग ने रांची में छापा मार कर बरामद कीं 70 लाख रुपए की प्रतिबंधित दवाएं

राँची:- रातू थाने के सिमालिया में औषधि नियंत्रण विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 70 लाख की प्रतिबंधित दवाएं बरामद की है। 21 सितंबर को गुमला थाना ने नशे की दवा के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपियों की निशानदेही पर औषधि निदेशालय की टीम ने रातू थाने की पुलिस के साथ मिलकर बुधवार को सिमलिया में छापेमारी की और नशे में इस्तेमाल की जाने वाली प्रतिबंधित दवाओं का जखीरा बरामद किया।
बुधवार को की गई छापेमारी के नेतृत्व कर रहे औषधि निरीक्षक रामकुमार झा ने कहा एक दुकान से रांची और आसपास के इलाकों में ड्रग का कारोबार अंबुज दो सहयोगियों के साथ कर रहा था। सिमालिया में बिना लाइसेंस और बोर्ड के नशा में इस्तेमाल हो रही मादक दवाओं (नारकोटिक एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस) को नशा करने वालों के बीच बेचा जाता था। एनडीपीएस एक्ट 1985 के अनुसार इस तरह की दवाओं का बिना लाइसेंस के स्टोर करना और बेचना गंभीर अपराध है और इसके लिए अधिकतम 20 साल तक की सजा का प्रावधान है।
औषधि निरीक्षक प्रतिमा झा के अनुसार करीब 40 हजार बोतल कोडीन ग्रुप का सिरप जिसमे खांसी के इस्तेमाल में लाई जाती है जिसमें विंसीरेक्स, कोरेक्स, फैन्सीरेक्स, रेसकोफ और टेबलेट्स ट्रामाडॉल, नींद के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा नाइट्रोसान-10, पेंटा जोसियन की बड़ी खेप बरामद की है।
पूछताछ से सामने आया है कि अंबुज और उसके सहयोगी काफी समय से इस गोरखधंधे में लगे थे। गुमला में उसके सहयोगी की गिरफ्तारी के बाद से उसे छापेमारी की भनक लग गई थी और वह फरार हो गया। एनडीपीएस act 1985 की धारा 21, 22, 29 के तहत रातू थाने में मामला दर्ज किया गया है। लगभग 5 घंटे चली छापेमारी में औषधि नियंत्रण निदेशालय के औषधि निरीक्षक रामकुमार झा, प्रतिभा झा और अमित कुमार के साथ रातू थाना पुलिस भी शामिल थी।

Recent Posts

%d bloggers like this: