October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बच्चे को कमाऊ पुत्र बनाने की होड़ में शामिल न करें, नैतिक गुणों को बढ़ावा दे : स्पीकर

मैट्रिक-इंटर परीक्षा के टाॅपर को स्पीकर व शिक्षामंत्री ने सौंपी कार की चाबी

शिक्षामंत्री अगले वर्ष के टाॅपरों को गोद लेने की घोषणा की

रांची:- झारखंड अधिविद्य परिषद (जैक) द्वारा संचालित मैट्रिक और इंटरमीडिएट परीक्षा के टाॅपर को शहीद विनोद बिहारी महतो की जयंती पर बुधवार को पुरस्कृत किया गया। मैट्रिक परीक्षा में टाॅपर नेतरहाट आवासीय विद्यालय के मनीष कुमार और इंटरमीडिएट परीक्षा में अव्वल रहें गिरिडीह के अमित कुमार को विधानसभा अध्यक्ष रविंद्रनाथ महतो और शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो ने कार की चाबी सौंपी।
विधानसभा परिसर में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित करते हुए विधानसभा अध्यक्ष डाॅ. रवींद्र कुमार महतो ने कहा कि मौजूदा सामाजिक परिवेश में लोग अपने बच्चे को कमाऊ पुत्र बनाने की होड़ में लगे है, लेकिन उनका यह मानना है कि बच्चों में नैतिक गुण को भी बढ़ावा मिल सके। उन्होंने कहा कि बच्चे बढ़ लिखकर, डाॅक्टर, इंजीनियरिंग, शिक्षक और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी जरूर बने, लेकिन उनमें नैतिक गुण का होना जरूरी है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि विद्यार्थियों के संपूर्ण व्यक्तित्व विकास में शिक्षकों की भूमिका काभी महत्वपूर्ण होती है, वे बच्चों के संतुलित विकास में सहयोग दें, विद्यार्थियों के माइंड के साथ बाॅडी व स्प्रीट विकास में भी शिक्षकों का योगदान काफी महत्वपूर्ण है।
शिक्षामंत्री अगले वर्ष के टाॅपरों को गोद लेने की घोषणा की
इस मौके पर शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने इस मौके पर समारोह को संबोधित करते हुए यह घोषणा की कि अगले वर्ष से जो टाॅपर होंगे, वे उन बच्चों को गोद लेंगे, ताकि वे आगे चलकर प्रशासनिक सेवा में या अन्य क्षेत्र में आगे बढ़ सके। उन्होंने कहा कि जब टाॅपरों को कार देने की घोषणा उन्होंने की थी, तो लोगों ने इसका मजाक उड़ाया और कहा कि यह सिर्फ घोषणा भर है। लेकिन वे सिर्फ घोषणा नहीं करते है, बल्कि जो बात करते है, उसे पूरी भी करते है। उन्होंने कहा कि इंटरमीडिएट के तीनों संकायों में एक टाॅपर को आज सम्मानित किया जा रहा है, लेकिन शेष बचे दो संकाय के टाॅपरों को भी वे पढ़ने में अपनी ओर से हरसंभव मदद करेंगे, उनकी पढ़ाई को जारी रखने में कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी, वे खुद उन मेधावी परीक्षार्थियों के घर जाएंगे और उनसे मिलकर उन्हें प्रोत्साहित करेंगे। शिक्षामंत्री ने कहा कि राज्य के किसी भी बच्चें को यदि पढ़ाई जारी रखने में कोई दिक्कत आती है, तो वे उनसे संपर्क कर सकते है, वे व्यक्तिगत रूप से भी हरसंभव मदद करने को तैयार नहीं है। वे क्षेत्रवाद या जात-पात की राजनीति नहीं करते है, झारखंड और जमात की राजनीति करते है, जो भी मदद की जरुरत होगी, वे विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों की परेशानियों को दूर करने के लिए कृतसंकल्पित है। उन्होंने कहा कि वे खुद भी एक छात्र के रूप में इंटर की पढ़ाई के लिए नामांकन ले चुके है, वे भी टाॅपर कर सकते है।
शिक्षामंत्री जगरनाथ महतो ने मैट्रिक व इंटर के रिजल्ट प्रकाशन के पूर्व ही की थी। इसके अलावा शिक्षा मंत्री ने अपने विधानसभा क्षेत्र के टॉपर विद्यार्थी को मोटरसाइकिल तथा 75 फीसदी से अधिक अंक प्राप्त करने वाली छात्राओं को साइकिल देने की भी बात कही थी,जिसके अपने डुमरी विधानसभा क्षेत्र के मैट्रिक में 75 फीसदी से अधिक अंक लाने वाली छात्राओं को साईकिल और टाॅपर को मोटरसाईकिल देकर पुरस्कृत किया।

Recent Posts

%d bloggers like this: