October 23, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

नीतीश में चाहे जितनी खामियां निकालें, जनता तेजस्वी को स्वीकार करने को तैयार नहीं :राजीव रंजन प्रसाद

पटना:- जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लोगों को बरगलाने की कितनी भी कोशिश करें, बिहार के सीएम नीतीश कुमार के कामों में जितनी भी खामियां निकालें, बिहार की जनता उन्हें किसी भी स्थिति में स्वीकार करने को तैयार नहीं है ।
प्रदेश की जनता बराबर जानना चाहती है कि राजद के पंद्रह वर्षीय शासन के दौरान मात्र 95000 नौकरियां दी गई, जबकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शासनकाल में 7 लाख नौकरियों के साथ साथ हुनर को पहचान कर स्किल मैपिंग, आउटसोर्सिंग एवं कौशल विकास के जरिएअन्य लाखों लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान किए गए। प्रसाद ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार ने अपने विशेष प्रयासों से ग्रामीण अर्थव्यवस्था में जान फूंकी है।
उनके कार्यकाल की तुलना राजद के शासनकाल से किसी तरह नहीं की जा सकती। तेजस्वी को शायद यह जानकारी भी नहीं होगी कि स्टार्टअप पॉलिसी देश में सबसे पहले 2016 में बिहार ने लागू किया था। आज जब स्टार्टअप की रैंकिंग जारी की गई तो इन विचारों को सबसे प्रमुखता देते हुए बिहार को पहले नंबर पर स्थान दिया गया है। शायद इस बात को जब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समझ लेंगे तब जनता के मन में नीतीश कुमार के प्रति जो स्नेह और प्यार है उसका कारण भी समझ पाएंगे।
प्रसाद ने कहा नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को इस बात का पता तो चल ही गया कि लालू यादव के 15 वर्षों के शासन की जो खौफनाक यादें हैं, उसको बिहार की जनता भूलने को तैयार नहीं है। लोगों को गुमराह करने के लिए उन्होंने एक नया पैंतरा खेला है, जिसमें उन्होंने लालू यादव की तस्वीरों को पोस्टर से गायब कर खुद को सामने रखा है, लेकिन एक वंशवादी व्यवस्था का सबसे बड़ा सच यह है कि तेजस्वी यादव लालू यादव और राबड़ी यादव के सुपुत्र हैं और उनका खुद का कोई वजूद नहीं है।

Recent Posts

%d bloggers like this: