October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार कृषि संशोधन के पक्ष में उतरे, कहा- बिचौलियों से किसानों को मिलेगी मुक्ति

पालमपुर:- भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने कहा है कि विपक्ष ने राज्यसभा में संसद के इतिहास का सबसे निन्दनीय व्यवहार किया है। ससंद संवाद के लिए है। इस प्रकार की गुण्डागर्दी के लिए नहीं।
उन्होंने ने कहा कि कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के सम्बंध में भी बहुत आपत्तिजनक टिप्पणी की है। पूरा हिमाचल प्रदेश उससे आहत हुआ है। भारत का विपक्ष निराश – हताश होकर यह सबकुछ कर रहा है। उन्होंने इस व्यवहार की निन्दा की है।
शान्ता कुमार ने कहा विपक्षी दल केवल घटिया राजनीति के लिए नये कृषि सुधार बिल का विरोध कर रहे हैं। कुछ साल पहले नरेन्द्र मोदी ने मेरी अध्यक्षता में खाद्य किसान व्यवस्था के सम्बन्ध में एक कमेटी बनाई थी। प्रसिद्ध कृशि वैज्ञानिक अशोक गुलाटी उसके सदस्य थे। एक साल केे गहरे अध्ययन के बाद हमने अपनी रिपोर्ट में दो प्रमुख बातें कही थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि कृषि व्यवसाय पूरी दूनिया में लाभप्रद नहीं है। परन्तु अन्न के बिना कोई देश जी नहीं सकता, इसलिए किसान को खेत पर लगाए रखने के लिए विश्व के लगभग सभी देश किसानों को सीधे आय की सहायता देते हैं। उन्हें प्रसन्न्ता है कि मोदी ने भी किसान सम्मान निधि के रूप में हमारी सिफारिश को लागू कर दिया है। दूसरी बड़ी सिफारिश यह की थी कि किसानों को मठाधीश बन कर बैठे हुए बिचैलियों के चुंगल से मुक्त करवाया जाए। इस बार के अधिनियम में यह सबसे क्रान्तिकारी कानून बनाकर किसान को बहुत बड़ी राहत दी गई है। भोले-भाले किसानों ने कानून को पढ़ा नहीं। इस सारे किसान आन्दोलन के पीछे वही मठाधीश बिचोलिए हैं जो किसानों का शोषण करते थे। उन्होंने कमेटी के सभी सदस्यों की तरफ से इस महत्वपूर्ण सिफारिश को लागू करने के लिए सरकार का धन्यवाद किया है। यह सबसे दुर्भाग्यपूर्ण है कि आजादी के 72 साल के बाद भी अन्नदाता किसान आत्महत्या करने के लिए विवश होता है। मोदी के नेतृत्व में यह स्थिति बहुत जल्दी सुधरेगी। उन्होंने देश वासियों से अपील की है कि सरकार के इस किसान हितकारी क्रान्किारी कदम के लिए पूरा समर्थन करें।

Recent Posts

%d bloggers like this: