October 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

श्रमिक संगठनों के आह्वान पर 23 को विरोध दिवस

रांची:- श्रम कानूनो मे मालिक पक्षीय बदलाव कर उन्हे गुलाम बनाने की साजिश ,किसानो को तबाह करने वाले अधिनियम, जानलेवा बेरोजगारी, कामबंदी, जबरन रिटायरमेंट, राष्ट्रीय संपदा की लूट और देश की आर्थिक संप्रभुता के प्रतीक राष्ट्रीय उद्यमों का निजीकरण किए जाने एवं कोरोना की आपदा मे भाजपा सरकार की मनमानी के खिलाफ ट्रेड यूनियनों और श्रमिक फेडरेशनो के आह्वान पर 23 सितंबर का राष्ट्रीय विरोध दिवस एतिहासिक होगा।
झारखंड मे इसकी तैयारी जारी है। उधोगवार मिटिंग, कंवेंशन, कार्य स्थलों पर मजदूरों – कर्मचारियों से संपर्क और कल – कारखाने के गेट और खदानों के पास छोटी-छोटी बैठकों का कार्यक्रम किया जा रहा है। बैंक और बीमा सेक्टर के अलावा, रेलवे, पेट्रोलियम, दूर संचार इस्पात, तांबा, फार्मा, ट्रांसपोर्ट, निर्माण, बीड़ी और पत्थर उधोग के कामगारों , परियोजना कर्मियों, मिड डे मील वर्कर आंगनवाड़ी व सहिया के बीच अभियान जारी है। इस अभियान के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए युनियनों द्वारा पर्चा, पोस्टर प्रकाशित कर उसका वितरण किया जा रहा है। औधोगिक इलाकों में दीवाल लेखन और मजदूर बस्तियों मे स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइड लाइन का पालन करते हुए रोजाना जनसंपर्क किया जा रहा है। सभी केंद्रीय ट्रेड यूनियन और स्वतंत्र फेडरेशन इस अभियान को जारी रखे हुए हैं जो 23 सितंबर को अपने उत्कर्ष पर पहुंचेगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: