October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रोहित और धोनी की टक्कर से शुरू होगी आईपीएल की जंग

अबु धाबी:- तूफानी बल्लेबाज रोहित शर्मा की कप्तानी वाली मुंबई इंडियंस और सर्वश्रेष्ठ फिनिशर महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच शनिवार को उद्घाटन मुकाबले में विस्फोटक भिड़ंत के साथ विदेशी जमीन पर आईपीएल-13 की जंग शुरू हो जायेगी।
कोरोना महामारी के कारण आईपीएल का आयोजन इस बार संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के तीन शहरों दुबई, शारजाह और अबु धाबी में हो रहा है। आईपीएल के इतिहास में यह तीसरा मौका है जब इस टी-20 टूर्नामेंट का आयोजन विदेशी जमीन पर हो रहा है। टूर्नामेंट का फाइनल 10 नवम्बर को होगा। गत चैंपियन मुंबई और गत उपविजेता चेन्नई के बीच टूर्नामेंट का मुकाबला कुछ बदले हुए माहौल में होगा। दोनों टीमें जब पिछले साल भारत में फाइनल में भिड़ी थीं तब धोनी भारतीय टीम के सदस्य था और उन्हें आईपीएल के बाद इंग्लैंड में होने वाले एकदिवसीय विश्व कप के लिए अपनी दावेदारी पेश करनी थी लेकिन इस बार धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से पूरी तरह संन्यास लेने के बाद आईपीएल में उतर रहे हैं और उन पर अब भारतीय टीम में जगह बनाने का कोई दबाव नहीं है।
दूसरी तरफ रोहित देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित हो चुके हैं। दिलचस्प है कि धोनी ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के दिन अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की थी जबकि रोहित 29 अगस्त को खेल रत्न बने थे। धोनी इससे पहले खेल रत्न बन चुके हैं। दोनों टीमों को आईपीएल शुरू होने से पहले अपने कुछ खिलाड़ियों के हटने से गहरा झटका लगा है। पिछले वर्ष मुंबई के लिए फाइनल में आखिरी विजयी ओवर डालने वाले श्रीलंका के तेज गेंदबाज लसित मलिंगा निजी कारणों से आईपीएल से हट गए थे जबकि चेन्नई के अनुभवी बल्लेबाज और उपकप्तान सुरेश रैना तथा ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह भी निजी कारणों से आईपीएल से हट गए। रैना तो दुबई पहुंचने के एक सप्ताह बाद भारत लौट गए। मलिंगा और हरभजन तो दुबई पहुंचे ही नहीं थे और उन्होंने स्वदेश से ही अपने हटने की सूचना दे दी थी।
चेन्नई टीम के दो खिलाड़ी सहित 13 सदस्य दुबई पहुंचने के बाद कोरोना से संक्रमित हुए थे और उन्हें 14 दिन के आइसोलेशन में रखा गया था। तेज गेंदबाज दीपक चाहर कोरोना से उबर कर टीम में लौट चुके हैं जबकि बल्लेबाज ऋतुराज गायकवाड उद्घाटन मैच में नहीं खेल पाएंगे।
धोनी पिछले साल विश्व कप के सेमीफाइनल में खेलने के बाद से मैदान में नहीं उतरे थे और आईपीएल के लिए यूएई पहुंचने के बाद से ही उन्होंने अभ्यास किया है। धोनी के प्रदर्शन और कप्तानी पर सभी की निगाहें रहेंगी। वैसे भी तीन बार के आईपीएल विजेता धोनी हमेशा आलोचकों के निशाने पर रहते हैं। विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत की हार का सारा ठीकरा धोनी की सिर ही फोड़ा गया था जबकि टूर्नामेंट में रिकॉर्ड पांच शतक बनाने वाले रोहित सेमीफाइनल जैसे महत्वपूर्ण मौके पर मात्र एक रन बनाकर आउट हो गए थे। रोहित भी सात महीने के लम्बे अंतराल के बाद मैदान में उतर रहे हैं। भारत को इस साल मार्च में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी थी जो कोरोना के कारण रद्द कर देनी पड़ी थी। रोहित ने स्वीकार किया है कि इतने लम्बे समय के बाद बल्ला उठाकर सीधे मैदान में इतराना आसान नहीं होगा। हालांकि मुंबई के कोच श्रीलंका के महिला जयवर्धने से स्पष्ट किया है कि रोहित और क्विंटन डी कॉक की सलामी जोड़ी ही ओपनिंग की जिम्मेदारी संभालेगी। डी कॉक और रोहित ने पिछले सत्र में मुंबई के 16 मैचों में से 15 मैचों में ओपनिंग की थी और मुंबई ने चौथी बार खिताब जीता था। उन्होंने 37.66 के औसत से कुल 565 रन जोड़े थे और उनके बीच पांच अर्धशतकीय साझेदारियां हुई थीं। मुंबई और चेन्नई को यूएई की विदेशी जमीन पर विजयी शुरुआत करने के लिए सही संतुलन चुनना होगा। रैना और हरभजन के हट जाने के बाद धोनी के ऊपर जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ जायेगी और रैना की कमी को पूरा करने लिए वह बल्लेबाजी क्रम में तीसरे नंबर पर भी आ सकता हैं। ऐसा करने पर उन्हें खेलने के लिए ज्यादा ओवर मिलेंगे और वह टीम के लिए एंकर का रोल निभा सकते हैं। धोनी को बल्लेबाजी के शीर्ष क्रम में शेन वाटसन और फाफ डू प्लेसिस से काफी उम्मीदें रहेंगी जो टीम को अच्छी शुरुआत दे सकें। अंबाटी रायुडू, केदार जाधव, ड्वेन ब्रावो और रवींद्र जडेजा टीम को अच्छा स्कोर दिला सकते हैं। तेज गेंदबाज दीपक चाहर का कोरोना से उबर कर टीम में लौटना धोनी के लिए अच्छी खबर है। तेज गेंदबाजी में चाहर के साथ शार्दुल ठाकुर रह सकते हैं।
धोनी अपने स्पिन आक्रमण पर काफी भरोसा कर सकते हैं जिसमें लेफ्ट आर्म स्पिनर जडेजा, लेग स्पिनर पीयूष चावला और लेग स्पिनर इमरान ताहिर शामिल हैं। मुंबई की टीम अपनी तेज गेंदबाजी और आलराउंडरों के कारण काफी मजबूत नजर आती है। मुंबई के पास जसप्रीत बुमराह और ट्रेंट बोल्ट के रूप में दो बेहतरीन तेज गेंदबाज हैं जबकि कीरोन पोलार्ड, हार्दिक पांड्या और क्रुणाल पांड्या के रूप में उसके पास तीन बेहतरीन आलराउंडर हैं। पोलार्ड तो कैरेबियन लीग में हिस्सा लेकर आईपीएल आये हैं और फॉर्म तथा फिटनेस के लिहाज के सबसे ज्यादा बेहतर स्थिति में हैं।
इस मुकाबले में उतरने वाली टीमों में से जिस भी टीम ने कोरोना के खतरे के बावजूद विदेशी परिस्थितियों में खुद को बेहतर तरीके से ढाल लिया होगा उसके जीतने की संभावना ज्यादा रहेगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: