October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार को कोसी महासेतु का तोहफा देंगे

नई दिल्ली:- बिहार में आसन्न विधानसभा चुनाव व कोविड 19 माहामारी के इस दौर में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोसी महासेतु का उद्घाटन कर बिहार को तोहफा देंगे। 1934 में आए भूकंप की वजह से कोसी नदी पर बना रेल पुल क्षतिग्रस्त होने के 86 साल बाद अब कोसी नदी पर रेलवे का पुल बनकर तैयार हो गया है, जिसके ऊपर आज से ट्रेनें दौड़ने लगेंगी। कोसी नदी पर बने रेल पुल से ट्रेनों का परिचालन शुरू होने का सबसे ज्यादा लाभ दरभंगा, मधुबनी, सुपौल और सहरसा जिले में रहने वालों को होगा।

भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने रखी थी इस पुल की नींव

बिहार में वर्ष 1934 में आए भूकंप के दौरान कोसी नदी पर बना रेल पुल क्षतिग्रस्त हो गया था। इसके साथ ही उत्तर और पूर्व बिहार के बीच का रेल संपर्क टूट गया था। बाद के दिनों में दोनों इलाकों के बीच रेल संपर्क कायम तो हुआ, लेकिन कोसी नदी पर पुल निर्माण का कार्य नहीं हो पाया। जिसके कारण दरभंगा और मधुबनी को सीधे सुपौल व सहरसा से जोड़ने वाला मार्ग बंद पर गया था। वर्ष 2003 के 6 जून को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने इस दिशा में पहल की और कोसी नदी पर रेल पुल की नींव रखी गई। 17 साल बाद आज यह पुल बनकर तैयार हुआ है, जिसका उदघाटन आज पीएम नरेंद्र मोदी करेंगे।

पीएम नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आज 516 करोड़ रुपये की लागत से बने कोसी महासेतु का उद्घाटन करेंगे। इस पूल के उद्घाटन होने से कोसी क्षेत्र मिथिलांचल से सीधा जुड़ जाएगा। आज ही सरायगढ़ से आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन भी रवाना की जायेगी। इस रेल पुल के शुरू होते ही निर्मली से सरायगढ़ की 298 किलोमीटर की दूरी घटकर महज 22 किलोमीटर रह जाएगी। फिलहाल निर्मली से सरायगढ़ तक के सफर के लिए लोगो को दरभंगा- समस्तीपुर- खगड़िया- मानसी-सहरसा होते हुए 298 किमी की दूरी तय करनी होती थी। बता दें कि इस नए पुल पर जून महीने में ही ट्रेनों के परिचालन की टेस्टिंग की जा चुकी थी।

इसके साथ ही आज पीएम बिहार को देंगे 12 परियोजनाओं की सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोसी रेल मेगा ब्रिज और किउल यार्ड में पुराने मैकेनिकल सिगनललिंग को बदल कर इलेक्ट्रानिक इंटरलाकिंग और किउल नदी पर बने नए पुल को को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इसके अलावा पीएम मोदी आज हाजीपुर-वैशाली नई लाइन पर पैसेंजर ट्रेन, इस्लामपुर-नटेसर नई लाइन पर पैसेंजर ट्रेन, कटिहार-न्यूजलपाईगुड़ी रेलखंड पर ट्रेन,सीतामढ़ी से इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेन का परिचालन और सुपौल-सरायगढ़-आसनपुर कुपहा-राघोपुर रेलखंड में डीएमयू का शुभारंभ करेंगें। इसके अलावा समस्तीपुर-दरभंगा-जयनगर, समस्तीपुर से खगड़िया, शिवनारायणपुर से भागलपुर, कटिहार-न्यूजलपाईगुड़ी और सीतामढ़ी से मुजफ्फपुर के बीच नए विद्युतीकरण किए गए रेल खंड का उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही पीएम बिहार में बने चार नई रेललाईन और बाढ़-बख्तियारपुर के बीच बने तीसरी लाइन को भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे। बरौनी में बने नए लोको शेड़ और सहरसा-सरायगढ़- राघोपुर मार्ग पर हुए गेज परिवर्तन को भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

अटल जी के नाम पर हो कोसी महासेतु : संजय कुमार झा

बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने कोसी महासेतु का नाम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर करने का आाग्रह किया है। उन्होंने कहा कि मिथिला वासियों का 86 साल पुराना सपना आज साकार होने जा रहा है। 1887 में निर्मित कोसी रेल पुल के 1934 के भूकंप में ध्वस्त होने से मधुबनी से सुपौल का संपर्क टूट गया था। इस कारण दरभंगा, मधुबनी के लोगों को समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया होकर सुपौल जाना पड़ता था, जिसमें काफी वक्त लगता था। उन्होंने कहा कि 6 जून 2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और रेल मंत्री नीतीश कुमार ने कोसी महासेतु की सौगात देकर दो भाग में बंटे मिथिला को एक कर दिया। आज रेल महासेतु का उद्घाटन हो रहा है,अब रेल मार्ग के जरिए भी मिथिला की डायरेक्ट कनेक्टिविटी उत्तर-पूर्व के राज्यों से हो जाएगी। इससे मिथिला के विकास को गति मिलेगी। बिहार सरकार के मंत्री संजय कुमार झा ने मिथिलावासियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मौजूदा रेल मंत्री पीयूष गोयल से अनुरोध किया है कि, कोसी महासेतु को मंजूरी सहित मिथिला और मैथिली के विकास में अटल जी के योगदान को देखते हुए इस महासेतु का नामाकरण अटल जी के नाम पर किया जाये। उन्होंने बताया कि फरवरी, 2012 में कोसी सड़क महासेतु के उद्घाटन के दिन भी यह मांग रखी थी। संजय झा ने कहा कि हम मिथिला वासी अटल जी के कर्ज को तो कभी उतार नहीं सकते, लेकिन ‘अटल महासेतु’ के बहाने हम उन्हें एक छोटी सी श्रद्धांजलि जरूर दे पाएंगे।

Recent Posts

%d bloggers like this: