October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

गुजरात, हिमाचल और केरल ने स्कूल खोलने से किया इनकार, कुछ राज्यों में 21 से खोलने की तैयारी

नई दिल्ली:- भारत से कोरोना संकट अभी टला नहीं है लेकिन जिंदगी को पटरी पर लौटाने की कवायद शुरु हो गई है। 24 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। उसके बाद से जिंदगी घर के भीतर ही सिमट गई है। लाकडाउन के बाद अब पहली बार 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल खोलने की कवायद शुरु हो रही है। कई राज्य 21 सितंबर से स्कूल खोलने की तैयारी कर रहे हैं।
देशभर के ज्यादातर अभिवावक अपने बच्चों को स्कूल न भेजने के पक्ष में हैं। मध्य प्रदेश के 9वीं से 12वीं कक्षा के स्कूल 21 सितंबर से खुलने जा रहे हैं। इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग ने केंद्र के मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन करने के निर्देश दिए हैं। राजधानी के कुछ स्कूलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। हालांकि विद्यार्थियों के लिए स्कूल आना अनिवार्य नहीं है। यानी आदेश स्वैच्छिक है। विद्यार्थियों का जब दिल चाहे तब वह स्कूल आएं और अगर न चाहें तो न आएं। इस बार अटेंडेंस के आधार पर कोई व्यवस्था नहीं रहेगी। बाकी कक्षाएं और स्कूल 30 सितंबर तक बंद रहेंगे। पहले की तरह उनकी ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी।
अनलॉक-4 के तहत केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं तक के स्कूल खोलने की इजाजत दे दी है, हालांकि यूपी सरकार इसे लेकर राजी नहीं है। यूपी में लगातार बढ़ रहे कोरोना केस के चलते इस महीने से स्कूल खोलने को लेकर असमंजस है। डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि 21 सितंबर से राज्य में आंशिक रूप से स्कूल खोलने की संभावना बहुत कम है, क्योंकि प्रदेश में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं। कोरेाना संक्रमण को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने 21 सितंबर से स्कूल न खोलने का निर्णय किया है।
प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने मुख्य सचिव, शिक्षा सचिव और शिक्षा निदेशक को इस बाबत कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, उस स्थिति में स्कूलों को खोलना उचित नहीं होगा। फिलहाल 30 सितंबर तक स्कूल पूरी तरह से बंद रहेंगे। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कोरोना महामारी के कारण 30 सितंबर तक सभी स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया है।
गुजरात में 21 सितंबर से कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल अभी नहीं खुलेंगे। राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूड़ास्मा ने कहा कि कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए गुजरात सरकार ने 21 सितंबर से माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों को फिर से खोलने का फैसला नहीं किया है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि गांधीनगर में मुख्यमंत्री विजय रूपानी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक के दौरान राज्य सरकार ने छात्रों के हित में यह निर्णय लिया है।
हरियाणा के सोनीपत और करनाल में स्कूल का ट्रायल रन भी चल रहा है। यहां बबल्स सिस्टम से बच्चों को बैठाया जा रहा है। ये प्रयोग अगर सफल रहा तो पूरे प्रदेश में ही इस नियम को लागू किया जाएगा और स्कूल खोले जाएंगें। गोवा की प्रमोद सावंत सरकार प्रदेश में आंशिक रूप से स्कूल खोलने पर विचार कर रही है। बताया गया कि राज्य सरकार 2 अक्टूबर से 10वीं और 12वीं के छात्रों को स्कूल जाने की अनुमति दे सकती है। हालांकि, इस पर अंतिम फैसला नहीं लिया गया है। सीएम की ओर से कहा गया है कि जल्दी ही संबंधित अधिकारियों के साथ मीटिंग में इस पर निर्णय लिया जाएगा।
झारखंड सरकार भी महामारी के बीच स्कूल खोलने के पक्ष में है। झारखंड के शिक्षा मंत्री वैद्यनाथ महतो का कहना है कि बच्चों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है। उन्होंने बताया, ‘एक सर्वे से हमें पता चला है कि शहरी क्षेत्रों में ऑनलाइन क्लास का महज 27 फीसदी छात्र ही लाभ ले पा रहे हैं। आंध्र प्रदेश में भी 21 सितंबर से स्कूल खोले जा रहे है। यहां 50 फीसदी टीचिंग और 50 फीसदी नॉन टीचिंग स्टाफ को स्कूल में बुलाया जा सकता है। 9वीं कक्षा से 12 तक का कोई भी छात्र अपने परिवारवालों की लिखित अनुमति के बाद स्कूल जा सकता है और पढ़ाई कर सकता है। राज्य सरकार की तरफ से यह जानकारी दी गई है।

Recent Posts

%d bloggers like this: