September 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मेक इन इंडिया के तहत देश का सबसे शक्तिशाली इंजन डब्ल्यूएजी 12 तैयार

मालगाड़ी के 150 डिब्बे खींचने की क्षमता रखता

नई दिल्ली:- भारतीय रेलवे ने मालगाड़ियों से ज्यादा से ज्यादा माल,कम समय में पहुंचाने में बड़ी सफलता हासिल की है। भारतीय रेलवे ने ‘मेक इन इंडिया के तहत देश का सबसे शक्तिशाली इंजन डब्ल्यूएजी 12 इंजन बनाया है, जो डेढ़ किमी लंबी मालगाड़ी को अकेला खींच सकता है। इसकी सबसे बड़ी खासियत है, कि यह इंजन 12 हजार हॉर्स पॉवर का है। यह रेलवे की तरक्की में नई क्रांति लाएगा।इससे बड़े-बड़े उद्योगों को काफी लाभ पहुंचेगा, क्योंकि यह अकेला ऐसा इंजन होगा जो 150 गाड़ी के डिब्बे अकेला खींचेगा। यह इंजन भारत देश का सबसे शक्तिशाली इंजन है। इन इंजनों को बिहार के मधेपुरा में तैयार किया जा रहा है।देश में लगभग 800 इंजन तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है। यह रेल इंजन हरियाणा के हिसार में आ गया है। यहां लोको पायलटों को इसकी चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है। उन्हें इंजन के बारे में तकनीकी जानकारियां दी जा रही हैं।
देश के शक्तिशाली इंजन की जानकारी देकर हिसार के रेलवे स्टेशन अधीक्षक केएल चौधरी ने बताया कि इंजन का ट्रायल भी सफल हो चुका है। खास बात यह है कि दो इलेक्ट्रिक इंजन मिलाकर एक यूनिट बनाया गया है, जिसमें मालगाड़ी के ज्यादा डिब्बे खींचने की शक्ति होगी। 6 हजार हॉर्स पॉवर यानी एक इंजन की बात करें तो वह मालगाड़ी के 58 से 60 डिब्बे खींच सकता है, मगर दो इंजन से तैयार किया गया यह डब्ल्यूजी 12 इंजन, मालगाड़ी के 150 डिब्बे खींचने की क्षमता रखता है। यह देश का सबसे शक्तिशाली इंजन है।
यह इंजन 11 सितंबर रात को हिसार पहुंचा और अगले दिन सुबह ही वापस चला गया। हिसार पहुंचने पर लोको पायलट को भी इंजन की ट्रेनिंग दी गई। खास बात है कि डब्ल्यूएजी 12 इंजन अकेला डेढ़ किलोमीटर तक लंबी मालगाड़ी को खींचने की क्षमता रखता है।इस इंजन की सामान्य गति 100 किलोमीटर प्रतिघंटा है मगर इसे 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से भी चलाया जा सकता है।इसकी लंबाई 35 मीटर है।इसमें एक हजार लीटर हाई कंप्रेसर कैपिसिटी के दो टैंक हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: