September 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

विवाद के बाद टोयोटा की सफाई, 2000 करोड़ रुपये के निवेश का वादा

नई दिल्ली:- जापान की दिग्गज ऑटो कंपनी टोयोटा मोटर्स कॉर्प ने भारत में कारोबार का विस्तार नहीं करने वाले बयान पर सफाई दी है। कंपनी का कहना है कि वह भारत में कारोबार करने और भारत में अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध है।इसके लिए टोयोटा समूह आने वाले वर्षों में टेक्नॉलाजी और इलेक्ट्रिफिकेशन पर 2000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। इसका इस्तेमाल घरेलू और एक्सपोर्ट मार्केट्स के लिए किया जाएगा। टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के मैनेजिंग डायरेक्टर मसाकाजू योशीमूरा ने कहा कि उनकी कंपनी भारत में अपने कारोबार के प्रति कटिबद्ध है। कंपनी को भारत की आर्थिक संभावनाओं पर पूरा भरोसा है, और अपना योगदान देने के लिए समर्पित है। उन्होंने कहा कि भारत में कंपनी का कारोबार उसकी दीर्घकालिक ग्लोबल स्ट्रैटजी का हिस्सा है। कंपनी अगले कुछ वर्षों में भारत में 2000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेगी। कंपनी भारत में नई, स्वच्छ और विश्वस्तरीय तकनीक और सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी। उल्लेखनीय है कि टोयोटा की स्थानीय यूनिट टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के वाइस चेयरमैन शेखर विश्वनाथन ने हाल में कहा था कि कंपनी भारत में अपने कारोबार का विस्तार नहीं करेगी। इसके लिए भारत में ज्यादा टैक्स को जिम्मेदार बताया है। उनके इस बयान को मोदी सरकार के लिए बड़ा झटका माना जा रहा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना संक्रमण की वजह से पस्त इकॉनमी को दुरुस्त करने के लिए विदेशी कंपनियों को लुभाने की लगातार कोशिश करते आ रहे हैं। विश्वनाथन ने इंटरव्यू में कहा, कोई टैक्स रिफॉर्म्स ना होने की वजह से कंपनी भारतीय बाजार से नहीं निकलेगी लेकिन अपना कारोबार नहीं बढ़ाएगी। टोयोटा दुनिया की सबसे बड़ी कार कंपनियों में से एक है।भारत में अपने कारोबार की शुरुआत 1997 में की थी। इसकी लोकल यूनिट में जापानी कंपनी की 89 फीसदी हिस्सेदारी है। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन डाटा के मुताबिक, अगस्त 2020 में कंपनी की भारतीय बाजार में हिस्सेदारी सिर्फ 2.6 फीसदी रह गई है जो एक साल पहले 5 फीसदी थी।

Recent Posts

%d bloggers like this: