October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

गुजरात में पीजी सेंटरों को 750 करोड़ रुपए का नुकसान

अहमदाबाद:- लॉकडाउन के कारण कई धंधे और रोजगार बंद हो गए हैं या हिचकोले खाकर चल रहे हैं। ऐसे में अहमदाबाद में चल रहा रहा पेइंग गेस्ट (पीजी) और रेंटल व्यवसाय भी ऑक्सीजन पर आ गया है। संचालकों ने बताया कि करीब दो लाख पीजी सेंटर में करीब 15 लाख लड़के- लड़कियां, नौकरी-पेशा लोग रहते थे। रहने, दो समय का खाने और दो टाइम का चाय-नाश्ता के लिए एक व्यक्ति से कम से कम 5 हजार रुपए प्रति महीने पीजी संचालक लेते थे। इससे पीजी में रहने वाले 15 लाख लोग प्रति माह 750 करोड़ रुपए रहने और खाने के लिए चुकाते थे। जब लॉकडाउन हुआ तभी पीजी में रहने वाले 70 प्रतिशत लोग रूम खाली कर चले गए। जबकि अभी 20 से 30 प्रतिशत लोग ही रहते हैं। पीजी व्यवसाय के साथ जुड़े ज्यादातर लोग ऐसे हैं, जो एक ही व्यवसाय पर निर्भर थे इस कारण उनके परिवार की हालत दयनीय हो गई है। उल्लेखनीय है कि पश्चिम अहमदाबाद में सबसे अधिक पीजी सेंटर सेटेलाइट, वस्त्रापुरा, गुरुकुल रोड, सोला, साइंससिटी, नवरंगपुरा, नारणपुरा, गुजरात यूनिवर्सिटी, घाटसलोडिया, पालडी, वासना, आंबावाडी में चलते थे। पीजी सेंटर में 8 हजार रुपए में एसी रूम जिसमें लाइट बिल रहने वाले को चुकाना पड़ता था। अलग रूम में रहने के लिए मासिक किराया 10 से 15 हजार तक लिया जाता था।

Recent Posts

%d bloggers like this: