September 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सीएम अमरिन्दर बोले- कृषि अध्यादेश संसद में पेश होने से अकाली दल का झूठा चेहरा बेनकाब

चंडीगढ़:- केंद्र सरकार के कृषि अध्यादेश के खिलाफ पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि केंद्र की तरफ से कृषि आर्डीनैंसों को बीते दिन संसद में पेश करने के साथ ही शिरोमणि अकाली दल का राज्य की किसानी के हितों की रक्षा करने के दावों का झूठ का पर्दाफाश हो गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अकाली दल द्वारा इन अध्यादेशों को आगे डालने की ऐसी अपील के बावजूद भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने इन अध्यादेशों को संसद के सैशन के पहले ही दिन पेश कर दिया, जिससे सिद्ध होता है कि अकाली इस मुद्दे सम्बन्धी ड्रामेबाज़ी कर रहे थे।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि वास्तविकता यह है कि सुखबीर सिंह बादल सोमवार को सदन से बाहर था, जब यह अध्यादेश संसद में कानून बनाने के लिए पेश हुए, जिससे सिद्ध होता है कि अकाली दल के प्रधान द्वारा सारा नाटक किसान जत्थेबंदियों को छलने के लिए रचा गया था, जिन्होंने इस समय पर अध्यादेशों का सख्त विरोध करते हुये केंद्र सरकार के खिलाफ़ कमर कसी हुई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे साफ़ झलकता है कि किसानों और राज्यों के हितों को आंखों से अनदेखा करते हुये साजिश रची गई जबकि कृषि संविधान के अनुसार राज्यों की जि़म्मेदारी है। उन्होंने कहा, ‘नहीं तो सुखबीर संसद के पहले ही दिन गायब क्यों रहता।’ अकाली दल के प्रधान को अच्छी तरह पता था कि यह आर्डीनैंस जिन पर अकाली दल ने भी मोहर लगाई है, कानून बनाने के लिए संसद में लाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इन अकालियों ने विधान सभा के एक दिवसीय सैशन के दौरान भी यही हत्थकंडे अपनाए थे और आर्डीनैंस विरोधी प्रस्ताव के हक में वोट से बचने के लिए उस समय अकाली दल ग़ैर उपस्थित रहा था। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि अकाली दल जो केंद्र में सत्ताधारी गठजोड़ का हिस्सा बन कर किसान विरोधी और संघीय ढांचे विरोधी आर्डीनैंसों को हरी झंडी दी जाने में अग्रणी रहा, अब आर्डीनैंसों संबंधी स्पष्टीकरण और संशोधनों का नाटक रच रहा है जिससे किसान जत्थेबंदियां और यूनियनों को बहलाया जा सके परन्तु इन वर्गों ने अब अकाली दल के नाटक के पीछे छिपा असली सत्य देख लिया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: