September 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज

20नामजद समेत 1000 से अधिक सहायक पुलिसकर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी

रांची:- सीधी नियुक्ति की मांग पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गये सहायक पुलिसकर्मियों ने आज मुख्यमंत्री आवास और राजभवन घेराव कार्यक्रम करने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने इसे विफल कर दिया। वहीं देर शाम आंदोलनरत सहायक पुलिस कर्मियों के खिलाफ रांची के लालपुर थाना क्षेत्र में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है, इसमें 20 नामजद समेत 1000 से अधिक सहायक पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया गया है।
मान-मनौव्वल की कोशिश खत्म हो जाने के बाद रांची जिला प्रशासन की ओर से देर शाम लालपुर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराये जाने के साथ मोरहाबादी में प्रतिनियुक्त पुलिस अधिकारियों और जवानों को सतर्क कर दिया गया है और इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी हो सकती है।
इधर, सेवा बहाल करने को लेकर मोरहाबादी मैदान में डटे 12 नक्सल प्रभावित जिलों के 2200 से अधिक सहायक पुलिसकर्मी आज सुबह राजभवन और सीएम आवास का घेराव करने के लिए निकले। लेकिन मोरहाबादी से राजभवन और सीएम आवास जाने वाली मार्ग को पुलिस ने बैरिकेडिंग कर बंद कर दिया था। और भारी संख्या में पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया था। बैरिकेडिंग के निकट पहुंचते ही तैनात पुलिस बल के जवानों ने सभी को रोक दिया। जिसके राजभवन और मुख्यमंत्री आवास घेराव का प्रयास बातचीत का भरोसा मिलने पर बैरिकेडिंग से वापस लौटे आंदोलनकर्मी बाद आंदोलनकारी पुलिसकर्मी और जिला पुलिस बल के जवानों के बीच तनातनी होने लगी। जिसकी सूचना मिलते ही रांची के सीनियर एसपी सुरेंद्र कुमार झा पहुंचे और आंदोलनकारी सहायक पुलिसकर्मियों के साथ बातचीत की। इस दौरान सीनियर एसपी ने उन्हें बातचीत का आश्वासन दिया और समझाया। जिसके बाद सहायक पुलिसकर्मी वापस मोरहाबादी मैदान लौट गए। आश्वासन के बाद मोरहाबादी लौट रही कुछ सहायक महिला पुलिसकर्मी आक्रोशित हो गई। उन्होंने कहा कि हम दो दिनों से मोरहाबादी मैदान में रह रहे हैं। हमारे पास न रहने को छत है और न खाने को खाना। पानी भी खरीदकर पीना पड़ रहा है। लेकिन हमारी कोई सुनने वाला नहीं है। हालांकि बाद में साथी महिला पुलिसकर्मियों के समझाने के बाद सभी मोरहाबादी मैदान की ओर लौट गए।

Recent Posts

%d bloggers like this: