October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जवानों तक संदेश पहुंचे कि संसद और देश उनके साथ खड़े हैं : नरेंद्र मोदी

नयी दिल्ली:- चीन के साथ सीमा पर तनाव के मद्देनजर प्रतिकूल परिस्थितियों में सरहद पर तैनात जवानों की हौसलाअफजायी के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज संसद सदस्यों का आह्वान किया कि वे एक संकल्प के साथ सैनिकों को संदेश दें कि सांसद, संसद और देश उनके साथ खड़ा है।
संसद का मानसूत्र सत्र शुरू होने से पहले श्री मोदी ने यहां संसद भवन परिसर में कहा , “ एक विशिष्ट वातावरण में संसद का सत्र आज प्रारंभ हो रहा है। कोरोना भी है, कर्तव्यव भी है और सभी सांसदों ने कर्तव्यव का रास्ताक चुना है। मैं सभी सांसदों को इस पहल के लिए बधाई देता हूं, अभिनंदन करता हूं और धन्य्वाद भी करता हूं।” चीन के साथ गतिरोध के चलते सीमा पर डटे जवानों की सराहना करते हुए श्री मोदी ने कहा कि उन्हें एकजुटता का संदेश देना समय की जरूरत है। संसद को जवानों को बताना चाहिए कि देश और संसद उनके साथ खड़ी है। उन्होंने कहा , “ इस सदन की विशेष जिम्मे दारी है और विशेष करके इस सत्र की विशेष जिम्मेनदारी है, आज जब हमारी सेना के वीर जवान सीमा पर डटे हुए हैं, बड़ी हिम्मरत के साथ, जज्बे के साथ, बुलंद हौसलों के साथ दुर्गम पहाड़ियों में डटे हुए हैं, और कुछ समय के बाद वर्षा भी शुरू होगी। जिस विश्वाकस के साथ वो खड़े हैं, मातृभूमि की रक्षा के लिए डटे हुए हैं, ये सदन भी, सदन के सभी सदस्य् एक स्वार से, एक भाव से, एक भावना से, एक संकल्पह से संदेश देंगे- सेना के जवानों के पीछे देश खड़ा है, संसद और सांसद सदस्योंा के माध्यपम से खड़ा है। पूरा सदन एक स्वनर से देश के वीर जवानों के पीछे खड़ा है; ये बहुत ही मजबूत संदेश भी ये सदन देगा, सभी माननीय सदस्यू देंगे। ऐसा मेरा पूरा विश्वाजस है।” श्री मोदी ने कहा , “ कोरोना से बनी जो परिस्थिति है उसमें जिन सतर्कताओं के विषय में सूचित किया गया है, उन सतर्कताओं का पालन हम सबको करना ही करना है और यह भी साफ है जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं। हम चाहते हैं कि बहुत ही जल्दह से जल्दह दुनिया के किसी भी कोने से वैक्सीकन उपलब्धह हो, हमारे वैज्ञानिक जल्दद से जल्दक सफल हों और दुनिया में हर किसी को इस संकट में से बाहर निकालने में हम कामयाब हों।” उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण बजट सत्र समय से पहले ही रोकना पड़ा था। इस बार भी दिन में दो बार, एक बार राज्यरसभा एक बार लोकसभा, समय भी बदलना पड़ा है। शनिवार और रविवार को कार्यवाही चलेगी। सभी सदस्यों ने इस बात को भी स्वी कार किया है, स्वा गत किया है और कर्तव्यस पथ पर आगे बढ़ने का फैसला किया है।
श्री मोदी ने कहा कि इस सत्र में कई महत्व।पूर्ण निर्णय होंगे, अनेक विषयों पर चर्चा होगी और हम सबका अनुभव है कि लोकसभा में जितनी ज्या्दा चर्चा होती है जितनी गहन चर्चा होती है, जितनी विविधताओं से भरी चर्चा होती है उतना सदन को भी, विषय-वस्तु को भी और देश को भी बहुत लाभ होता है।

Recent Posts

%d bloggers like this: