October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना का असर, पहली बार राज्यसभा चैंबर में बैठे लोकसभा सदस्य

सामाजिक दूरी सुनिश्चित करते हुए शुरू हुआ संसद का मानसून सत्र

सुबह 9 से दोपहर एक बजे तक लोस, अपराह्न 3 से शाम 7 बजे तक रास की कार्यवाही

पीएम मोदी नीला, वित्त मंत्री सीतारमण और पासवान मधुबनी मास्क पहने नजर आए

सदस्यों की सुरक्षा के लिए हर सीट के आगे प्लास्टिक शील्ड कवर लगाया गया

नई दिल्ली:- कोरोना वायरस महामारी से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन करते हुए सोमवार को संसद के मानसून सत्र का प्रारंभ हुआ। इस दौरान पहली बार लोकसभा के सदस्यों ने राज्यसभा में बैठकर सदन की कार्यवाही में हिस्सा लिया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सामाजिक दूरी की अनुपालना के मद्देनजर लोकसभा के सदस्यों को उच्च सदन में बैठने की अनुमति देने और राज्यसभा के सदस्यों को निचले सदन में बैठना सुगम बनाने के लिये नियमों एवं प्रक्रियाओं में ढील दी गई है। सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही सुबह 9 बजे से दोपहर एक बजे तक हुई, जबकि राज्यसभा की कार्यवाही अपराह्न 3 बजे से शाम 7 बजे तक होगी। उन्होंने कहा कि प्रक्रिया के हिस्से के तहत दोनों सदनों के चैम्बरों और दीर्घाओं को उस समय लोकसभा का हिस्सा माना जायेगा जब इस सदन की कार्यवाही चल रही होगी। बिरला ने कहा कि यह पहला मौका होगा जब ऐसी व्यवस्था की जा रही है। सदस्यों को बैठकर बोलने की अनुमति दी गई है।
बिरला ने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा कि कुछ सदस्यों को इसमें परेशानी आ सकती है। बहरहाल, सुबह कार्यवाही शुरू होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अन्य अनेक मंत्री और सदस्य मास्क पहनकर बैठक में पहुंचे और सामाजिक दूरी की अनुपालना सुनिश्चित की। प्रधानमंत्री मोदी ने नीले रंग का थ्री प्लाई मॉस्क पहन रखा था तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान मधुबनी मास्क पहने नजर आए। तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी तथा कुछ सदस्य फेस शील्ड पहनकर सदन में पहुंचे। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला सफेद रंग का मास्क पहनकर अपने आसन पर पहुंचे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सफेद रंग का मास्क पहन रखा था। सदन में सदस्यों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर सीट के आगे प्लास्टिक शील्ड कवर लगाया गया है।
सदन में बैठने की बदली हुई व्यवस्था के बीच कई सदस्यों को उनके स्थान तक पहुंचने में लोकसभा कर्मी मदद करते भी दिखे। लोकसभा चैम्बर में करीब 200 सदस्य मौजूद थे तो लगभग 50 सदस्य गैलेरियों में थे। लोकसभा चैम्बर में ही एक बड़ा टीवी स्क्रीन लगाया गया है, जिसके माध्यम से राज्यसभा चैम्बर में बैठे लोकसभा के सदस्य भी नजर आ रहे थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: