October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जुलाई-अगस्त में म्यूचुअल फंड कंपनियों ने स्टॉक्स से निकाले 17,600 करोड़

नई दिल्ली:- इक्विटी आधारित योजनाओं में नकारात्मक प्रवाह के चलते म्यूचुअल फंड कंपनियों का बाजार पर भी प्रतिकूल असर पड़ा है। जुलाई-अगस्त के दौरान शेयर बाजारों से 17,600 करोड़ रुपये की निकासी की है। म्यूचुअल फंड कंपनियों ने शेयर बाजारों से ऐसे समय निकासी की है जबकि कोरोना वायरस की वजह से पैदा अड़चनों की वजह से दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां सुस्त पड़ी हैं और शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव का सिलसिला चल रहा है। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के आंकड़ों के अनुसार जनवरी-जून के दौरान म्यूचुअल फंड कंपनियों ने शेयरों में शुद्ध रूप से 39,755 करोड़ रुपये का निवेश किया था। सेबी के पास पंजीकृत पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवा कंपनी ग्रीन पोर्टफोलियो के सह-संस्थापक दिवम शर्मा ने कहा, म्यूचुअल फंड की ताजा निकासी की वजह पिछले दो माह के दौरान इक्विटी म्यूचुअल फंड योजनाओं में फंड का नकारात्मक प्रवाह है।
उन्होंने कहा कि कुछ निवेशक बाजारों में हालिया तेजी के बाद सतर्क हैं, वहीं अन्य ने अपनी पूंजी को सीधे शेयरों में लगाया है। इसका पता इस बात से चलता है कि पिछले कुछ माह के दौरान डीमैट खातों की संख्या में अच्छा-खासा उछाल आया है। सेबी ने म्यूचुअल फंड्स की मिडकैप कैटेगिरी को लेकर नए नियम जारी किए है। नए नियमों के मुताबिक, एक मल्टीकैप फंड को शेयर बाजार में कुल 75 फीसदी रकम लगानी होगी। अभी तक इसकी लिमिट 65 फीसदी थी। साथ ही, इस 75 फीसदी रकम में से 25 फीसदी लार्जकैप शेयरों में लगानी होगी। वहीं, 25 फीसदी मिडकैप और 25 फीसदी हिस्सा स्मॉलकैप शेयरों में लगाना होगा। इस फैसले से शेयर बाजार के निवेशकों को बड़ा फायदा होगा। आपको बता दें कि नए नियम जनवरी 2021 से लागू होगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: