October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना वैक्सीन के सीरम इंस्टीट्यूट ने रोके ट्रायल

साल के अंत तक कामयाबी ‎‎‎मिलने की संभावना

नई दिल्ली:- कोरोना वायरस की वैक्सीन बना रही सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा कि उसने कोविड-19 वैक्सीन के परीक्षण को रोकने का फैसला किया है, क्योंकि एस्ट्राजेनेका ने इस प्रक्रिया को रोक दिया था। एस्ट्राज़ेनेका के तीन परीक्षणों को बुधवार को ब्रिटेन में टीका परीक्षण में शामिल एक व्यक्ति पर इसके प्रतिकूल प्रभाव पड़ने के बाद रोक दिया गया है। मालूम हो कि एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सहयोग से सीरम इंस्टीट्यूट कोविड -19 के खिलाफ एक टीका विकसित कर रहा है। एस्ट्राज़ेनेका ने रोगी में प्रतिकूल प्रतिक्रिया की प्रकृति के बारे में नहीं बताया है। एस्ट्राज़ेनेका ने भी एक बयान जारी कर कहा है, “ये एक रूटीन रुकावट है, क्योंकि टेस्टिंग में शामिल व्यक्ति की बीमारी के बारे में अभी तक कुछ समझ में नहीं आ रहा है।” इससे पहल केन्द्रीय औषधि नियामक ने फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके का अन्य देशों में नैदानिक परीक्षण बंद किए जाने और टीके के “गंभीर प्रतिकूल प्रभावों की खबरों” के संबंध में सूचना नहीं देने को लेकर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। भारत के औषधि महानियंत्रक डॉक्टर वीजी सोमानी ने कारण बताओ नोटिस में सीरम इंस्टीट्यूट से पूछा है कि मरीजों की सुरक्षा की गारंटी होने तक, देश में टीके के दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण के लिए दी गयी अनुमति को निलंबित क्यों ना किया जाए। डीसीजीआई द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस के संबंध में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा है, “हम डीसीजीआई के निर्देशानुसार काम कर रहे हैं और अभी तक हमसे परीक्षण रोकने को नहीं कहा गया है। डीजीसीए ने पिछले महीने पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट को कोरोना वायरस संक्रमण के टीके के दूसरे और तीसरे चरण के मानव क्लिनिकल परीक्षण की अनुमति दी थी।अगर डीसीजीआई को कोई सुरक्षा संबंधी चिंता है तो हम उनके निर्देशों का अनुसरण करेंगे और मानक प्रक्रिया का पालन करेंगे।” एस्ट्राजेनेका द्वारा ब्रिटेन में परीक्षण रोके जाने के संबंध में सीरम इंस्टीट्यूट ने अपने बयान में कहा, “हम ब्रिटेन में हो रहे परीक्षणों पर ज्यादा टिप्पणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन उन्हें समीक्षा के लिए फिलहाल रोक दिया गया है और आशा है कि वह जल्दी शुरू होंगे।”

Recent Posts

%d bloggers like this: