October 31, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार विधान पार्षद के पूर्व सदस्य छत्रपति शाही मुंडा का निधन, शोक की लहर

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व विधायक दल के नेता समेत अन्य ने दुःख व्यक्त किया

रांची:- बिहार विधान परिषद के पूर्व सदस्य और अलग झारखंड राज्य के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले 75वर्षीय छत्रपति शाही मुंडा का रविवार को निधन हो गया। रांची के अनगड़ा प्रखंड स्थित नवागढ़ मड़ईटोल गांव में रहने वाले छत्रपति शाही मुंडा पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके निधन पर राज्य में शोक की लहर है। पूर्व विधान पार्षद छत्रपति शाही मुंडा 1989 से लेकर 1992 तक छत्रपति शाही मुंडा एकीकृत बिहार में विधान परिषद के सदस्य रहे, इस दौरान वे अनुसूचित जनजाति, जाति समिति के सभापति भी रहे। एकीकृत बिहार में कांग्रेस कमेटी में महासचिव पद की जिम्मेवारी निभाने वाले छत्रपति शाही मुंडा ने अलग राज्य गठन के बाद भी प्रदेश कांग्रेस कमेटी में महासचिव के पद पर रहते हुए संगठन को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। 75वर्षीय छत्रपति शाही मुंडा कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे और पिछले दिनों हार्ट अटैक के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था और फिर घर वापस ले जाया गया, जहां उन्होंने आज अंतिम सांस ली। उनके दो भाई और तीन बहनें थीं। छत्रपति शाही मुंडा आदिवासी समाज के लिए अलग जनगणना में अलग धर्म कोड की मांग को लेकर लंबे समय तक संघर्ष रहे। उनका कहना था कि देश के विभिन्न हिस्सों में जनजातीय समाज के लोग भले ही अलग-अलग धार्मिक मान्यताओं का पालन करते है, लेकिन सभी प्रकृति के पूजक है और इनके लिए अलग धर्म कोड जरूरी है। छत्रपति शाही मुंडा ने कांग्रेस पार्टी में शामिल होने के पहले अपने राजनीतिक और सामाजिक जीवन की शुरुआत झारखंड मुक्ति मोर्चा से की और उन्होंने ही झामुमो का संविधान बनाया था। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सह वित्त तथा खाद्य आपूर्ति डाॅ. रामेश्वर उरांव एकीकृत बिहार में विधान पार्षद रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता छत्रपति शाही मुंडा के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि झारखंड आंदोलन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पूर्व विधायक छत्रपति शाही मुंडा ने समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े लोगों के हितों की रक्षा के लिए जीवन भर संघर्ष किया। अंतिम समय तक वे कांग्रेस पार्टी और संगठन की मजबूती को लेकर प्रयासरत रहे, उनके निधन से झारखंड कांग्रेस को अपूरणीय क्षति हुई है। कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने छत्रपति शाही मुंडा के निधन की खबर को भी पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति बनाया।पार्टी के वरिष्ठ नेता और कृषिमंत्री बादल, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, राजेश गुप्ता छोटू और लाल किशोर नाथ शाहदेव ने भी छत्रपति शाही मुंडा के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: