October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार में बाढ़ प्रभावित जिलों को केंद्र की सौगात, बिजली सप्लाई होगी बेहतर

करीब 100 करोड़ रुपए की लागत के प्रोजेक्ट से दूर होगी कम वोल्टेज की समस्या

पटना:- कोरोना का कहर तथा बाढ़ का प्रकोप, दोहरी मार झेल रहे बिहार में बिजली की आपूर्ति बेहतर करने को लेकर केंद्रीय ऊर्जा और नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह आज एक बड़ी परियोजना का शिलान्यास करेंगे। बिहार में बिजली की उपलब्धता बढ़ाने के लिए केंद्रीय मंत्री सिंह रविवार दोपहर तीन बजे 400 केवी डबल सर्किट किशनगंज-दरभंगा पारेषण लाइन सहरसा में लीलो परियोजना का शिलान्यास करेंगे। पावरग्रिड द्वारा 400/220/132 केवी उपकेंद्र की स्थापना सहरसा में की जा रही है। इस उपकेंद्र को 400 केवी लीलो किशनगंज-पटना लाइन के जरिए पटना और किशनगंज से जोड़ा जाएगा। बाढ़ बाहुल्य जिला होने की वजह से इस क्षेत्र के लोगों को बिजली की आपूर्ति और बढ़ेगी।
करीब 100 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस प्रोजेक्ट से बिहार के सहरसा, सुपौल, खगड़िया और बेगूसराय जिलों में बिजली की उपलब्धता तुलनात्मक रूप से ज्यादा बढ़ेगी। परियोजना के पूरा होने से उत्तर बिहार के निवासियों को कम वोल्टेज की समस्या से स्थायी समाधान मिल पाएगा। बिहार से भोजपुर से सांसद और केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने शनिवार को भी पटना, बारह स्थित सहरी और सहनौरा में दो कम्यूनिटी सेंटर का उद्घाटन किया। आरके सिंह ने औरंगाबाद, नबीनगर में तीन किलोमीटर लंबी मेह-इंद्रापुरी बैरेज रोड का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि बिहार के विद्युतिकरण में केंद्र सरकार ने 11 हजार करोड़ रुपए निवेश किए है। राज्य के अलग-अलग हिस्सों में सब स्टेशन, ट्रांसमिशन और ग्रामीण विद्युतिकरण बेहतर करने में मिशन मोड पर काम किया जा रहा है। सीएसआर फंड के तहत एनटीपीसी बारह ने 62 लाख की लागत से दो कम्यूनिटी बिल्डिंग का निर्माण किया जाएगा, जिससे 13,500 ग्रामीणों को फायदा होगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: