October 20, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार में सुशासन बाबू की छवि में आई गिरावट

विधानसभा चुनाव से पूर्व भाजपा में बढ़ी चिंता भाजपा ने बिहार में इंटरनल सर्वे कराया

पटना:- भारतीय जनता पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए एक इंटरनल सर्वे कराया है।सर्वे पार्टी के जनरल सेक्रेटरी, एमएलसी और प्रदेश उपाध्यक्षों के 90 लोगों की टीम ने किया है।सूत्रों की मानें सर्वे 25 से 28 अगस्त के बीच किया गया है।तीन दिनों तक टीम ने पार्टी के मंडल स्तर तक जाकर जानकारी इकट्ठा की है।सर्वे के आधार पर जो रिपोर्ट बीजेपी के पास आई है,वहां चौंकाने वाली है। दरअसल, बीजेपी के आंतरिक सर्वे में बिहार में 15 साल से सत्ता के शीर्ष पर बैठे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ इस बार एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर काफी अधिक है। सर्वे में सामने आया हैं भाजपा को छोड़ने और आरजेडी के साथ जाने, फिर आरजेडी को छोड़कर बीजेपी के साथ आने के नीतीश कुमार के फैसले के बाद उनकी विश्वसनीयता पर लोग संदेह करने लगे हैं। सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि राजद सुप्रीमों लालू को लेकर नीतीश कुमार कहीं न कहीं सॉफ्ट हैं। वहीं, बीजेपी के बड़े से बड़े नेता लालू पर सीधा हमला करते हैं। इसके अलावा नीतीश के कार्यकाल के पांच साल के काम से लोग खुश नहीं हैं। सूत्रों के अनुसार बीजेपी की सर्वे टीम ने अपनी रिपोर्ट बिहार भाजपा के प्रभारी भूपेंद्र यादव और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को दे दी है।कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं ने मुद्दे पर चर्चा भी की है।इसकारण भाजपा ने यह तय किया है कि वहां ज्यादा जोर पीएम नरेंद्र मोदी के नाम और काम पर ही देगी। भाजपा का चुनावी नारा भी प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की तर्ज़ पर आत्मनिर्भर बिहार है. बहरहाल, बीजेपी के इंटरनल सर्वे पर बिहार सरकार के मंत्री महेश्वर हज़ारी ने कहा है कि नीतीश कुमार की लोकप्रियता घटी नहीं है, बल्कि बढ़ी है। इस बार फिर उनके चेहरे पर बिहार में सरकार बनेगी। वहीं, आरजेडी नेता भाई विरेंद्र ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि अब उनके सहयोगी भी समझ चुके हैं कि नीतीश की जमीन खिसक गई है।

Recent Posts

%d bloggers like this: