October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिहार के सात इंजीनियरिंग कॉलेजों में 30 सितंबर से ठप हो सकती है पढ़ाई

351 शिक्षकों में से 205 सहायक शिक्षकों का अनुबंध हो जाएगा 30 सितंबर को खत्म

छपरा:- बिहार के सात इंजीनियरिंग कॉलेजों के कई विभागों में 30 सितम्बर के बाद ताला लटक सकता है। क्योकि यहां पढ़ाने वाले 351 शिक्षकों में से 205 सहायक शिक्षकों का अनुबंध 30 सितंबर को खत्म हो जाएगा। दरअसल छपरा स्थित लोकनायक जयप्रकाश इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी महाविद्यालय में केंद्र सरकार द्वारा 27 सहायक प्रोफेसरों को 2017 में तीन वर्षों के लिए भेजा गया था। लेकिन, अभी तक इन शिक्षकों का अवधि विस्तार नहीं किया गया। ऐसी स्थिति में नाराज शिक्षक सभी सात इंजीनियरिंग कॉलेजों में धरना पर बैठ गए हैं।
इस धरना के कारण इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ाई बाधित हो गई है। सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के एचओडी विवेक कुमार तिवारी बताते हैं कि केंद्र सरकार द्वारा 27 सहायक प्रोफेसरों को 2017 में बहाल कर तीन वर्षों के लिए लोकनायक जयप्रकाश इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी महाविद्यालय भेजा गया था। केंद्र और 12 राज्यों के बीच हुए समझौते के तहत या तो राज्य सरकार संविदा समाप्ति के पूर्व नई बहाली कर लेगी या फिर संविदा अवधि का विस्तार करेगी। उन्होंने बताया कि यह समझौता उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और बिहार सरीखे 12 राज्यों के साथ एक एमओयू साइन करते हुए 1554 सहायक प्राध्यापक संविदा पर बहाल कर उन्हें इन 12 राज्यों में भेजा गया। अब इनकी अनुबंध समय सीमा खत्म होने को है, लेकिन राज्य सरकार इनके भविष्य के बारे में कोई फैसला नहीं ले रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की इस लेट लतीफी से अपने भविष्य को लेकर चिंतित इन उच्च डिग्री प्राप्त सहायक प्राध्यापकों को अपना कैरियर अंधकारमय लगने लगा जिसके बाद इन्होंने असहयोग का रास्ता अख्तियार करते हुए शांतिपूर्ण धरना शुरू कर दिया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: