October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

एस्ट्राजेनेका कंपनी ने कोरोना वैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल को बीच में रोका, समीक्षा जारी

न्यूयॉर्क:- ब्रिटिश-स्विडिश बायो फ़ार्मा कंपनी ‘एस्ट्रा ज़ेनेका’ ने मंगलवार को अकस्मात कोरोना संक्रमण के लिए विकसित की जा रही वैक्सीन के तीसरे और अंतिम चरण के क्लिनिकल ट्रायल को रोक दिया है। कंपनी के प्रवक्ता ने बताया कि क्लिनिकल ट्रायल के दौरान एक प्रतिभागी में वैक्सीन के इंजेक्शन से गंभीर एवं संदिग्ध प्रतिकूल प्रतिक्रिया देखने को मिली है। हालांकि अभी इस बात का पता नहीं चल सका है कि यह ‘प्रतिक्रिया’ सीधे कंपनी के टीके के कारण हुई है या संयोगवश हुई है। एस्ट्राजेनेका कंपनी वैक्सीन की सुरक्षा समीक्षा और जांच प्रक्रिया में जुट गई है। प्रवक्ता ने दावा किया है कि इतने बड़े स्तर पर किए जा रहे क्लिनिकल ट्रायल में अक्सर इक्की-दुक्की घटनाएं हो जाया करती हैं। इस वैक्सीन को लेकर ब्रिटेन, अमेरिका और ब्राज़ील में 17 हजार प्रतिभागियों पर क्लिनिकल परीक्षण किए जा रहे हैं। कोविड-19 से अभी तक विश्व स्तर भर में 8,90,000 से अधिक लोगों की जाने जा चुकी हैं और दुनिया भर में करोड़ों लोगों की निगाहें एक उत्तम वैक्सीन पर टिकी हुई है। अस्ट्रा-जेनेका AstraZeneca एक फ्रंट-रनर है। इसने वर्ष के अंत से पहले एक वैक्सीन तैयार होने की उम्मीद जताई हुई है। इस वैक्सीन के इंजेक्शन से ही प्रतिक्रिया हुई है, तो यह गंभीर मसला हो सकता है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने सैन फ्रांसिस्को के कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ फेलिस टीएन ने कहा है, “हमें सुरक्षा का आकलन करने की आवश्यकता है। अब जब तक सेफ्टी बोर्ड यह पता नहीं लगा लेता कि क्या उक्त प्रतिक्रिया वैक्सीन से सीधे संबंधित थी अथवा नहीं, क्लिनिकल ट्रायल को रोकना एक अच्छा विचार है।”राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोना वैक्सीन को राष्ट्रपति चुनाव की तिथि तीन नवंबर से पहले बाज़ार में लाने के दावे करते आ रहे हैं। इस संदर्भ में मंगलवार को ‘एस्ट्राज़ेनेका’ सहित नौ कंपनियों ने कोरोनोवायरस के टीकों पर “विज्ञान के साथ खड़े रहने” की संयुक्त प्रतिज्ञा की है। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि वैक्सीन को बाज़ार में उतारने से पहले उसकी सुरक्षा और उसके देरी तक प्रभाव रहने के बारे में हर क़दम की वैज्ञानिक आधार पर पुष्टि की जाएगी। इस तथ्य को एस्ट्राजेनेका कंपनी ने भी माना है। प्रवक्ता ने कहा है कि बड़े स्तर पर परीक्षण के दौरान कभी-कभी एक दो प्रतिभागी संयोगवश बीमार हो जाते हैं, लेकिन इसे ध्यान से देखने के लिए स्वतंत्र रूप से समीक्षा की जानी ज़रूरी है।

Recent Posts

%d bloggers like this: