October 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पायलट, क्रू-मेंबर्स का उड़ान से पहले होगा अल्कोहल टेस्ट, दोषी होने पर 3 साल के लिए लाइसेंस रद

नई दिल्ली:- नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने एयरलाइंस कंपनियों से पायलटों और क्रू-मेंबर्स का उड़ान भरने से पहले अल्कोहल टेस्ट करने को कहा है। कोरोना महामारी को देखते हुए उसने इस साल 29 मार्च को ब्रीथ एनलाइजर (बीए) टेस्ट को बंद करने का आदेश दिया था। डीजीसीए ने अपने पूर्व के आदेश में संशोधन करते हुए नया आदेश जारी किया है।
इसके अनुसार, पायलटों और क्रू-मेंबर्स के अलावा अन्य कर्मियों का टेस्ट नहीं होगा। इनके लिए पहले का आदेश प्रभावी रहेगा। उसने कहा है कि घरेलू उड़ान संचालन में पायलटों और क्रू-मेंबर्स में से 10 प्रतिशत को प्रतिदिन बीए टेस्ट से गुजरना चाहिए। वहीं अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में प्रतिदिन सत-प्रतिशत टेस्ट होना चाहिए। हालांकि, कोरोना महामारी के चलते अभी सिर्फ वंदेभारत मिशन के तहत ही अंतराष्ट्रीय उड़ानें संचालित हैं। गौरतलब है कि पिछले आदेश में कहा गया था कि विमानन क्षेत्र से जुड़े कर्मियों को यह वचन देना होगा कि वे शराब के प्रभाव में नहीं हैं और उन्होंने रिर्पोटिंग समय से 12 घंटों पहले तक शराब का सेवन नहीं किया है। साथ में यह चेतावनी भी दी गई थी कि यदि कíमयों द्वारा नियम का उल्लंघन किया जाता है, तो उनका लाइसेंस तीन साल के लिए निलंबित कर दिया जाएगा।
नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि विदेश से आने वाले यात्रियों को एंट्री पोर्ट पर कोरोना जांच के बाद निगेटिव होने पर ही घरेलू कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने की अनुमति मिलेगी। मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार विदेश से आए सभी यात्रियों को कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने से पहले आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा। टेस्ट निगेटिव रहने पर ही वे अपने शहर के लिए घरेलू कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ सकेंगे। कोरोना जांच की रिपोर्ट आने में करीब सात घंटे लगेंगे। इस दौरान उन्हें एंट्री पोर्ट के लाउंज में ही समय बिताना होगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: