October 21, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ढाई महीने से जेल में बंद युवक ने डिप्रेशन में कर ली सुसाइड

पटना:- बिहार की बेउर जेल में बंद कैदी गौरी यादव ने डिप्रेशन के चलते शौचालय में जाकर फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। गौरी की उम्र करीब 35 साल थी और वह हत्या के एक मामले में एससी-एसटी एक्ट के तहत जेल में बंद था। बता दें कि हत्या के आरोप में गौरी के अलावा गौरी का भाई दिलीप यादव व उसके परिजन गीगल यादव, त्रिलोकी यादव, डब्लू यादव व सतीश बेउर जेल में ही बंद हैं। गौरी फरार चल रहा था पर पुलिस की दबिश की वजह से उसने 19 जून 2020 को कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। वह ढाई माह से बेउर जेल में था और उसे बेल नहीं मिल रही थी, इस वजह से वह डिप्रेशन में था। गौरी फिलहाल बेउर जेल के गंगा खंड के 5/8 में था।
जेल प्रशासन ने उसके परिजनों को घटना की सूचना दे दी है। बताया गया कि गौरी ने बेउर वार्ड के कॉमन शौचालय में ये कदम उठाया है। उसे कैदी कम इस्तेमाल करते हैं। इसी बीच दापेहर में गौरी उस शौचालय में गया और गले में गमछा लपेटकर वहां लगे पाइप में झूल गया। इसी बीच कोई कैदी उधर गया तो देखा कि शौचालय बंद है, उसे शक हुआ तो गेट खटखटाया। मगर, आवाज नहीं आई। इसके थोड़ी देर बाद अन्‍य कैदी और जेल प्रशासन भी वहां पहुंच गया। हालांकि उसकी सांसें चल रही थी। तत्काल ही उसे पीएमसीएच भेजा गया पर उसकी मौत हो गई।
बता दें कि इससे पहले 2018 में भी यहां अपहरण व हत्या के आरोप में बंद मनेर के शेरपुर के गोवर्धन राय ने खुदकुशी कर ली थी।

Recent Posts

%d bloggers like this: