October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

राजस्थान में 7 सितम्बर से खुलेंगे धार्मिक स्थल, जयपुर जिला कलक्टर ने अधिकारियों को दिए ये आदेश

जयपुर:- जिला कलक्टर अन्तर सिंह नेहरा ने सभी उपखण्ड अधिकारियों को उनके क्षेत्र में 7 सितम्बर से खुलने वाले धार्मिक स्थलों पर मास्क, सोशल डिस्टेंंसिंग एवं राज्य सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में 27 अगस्त के आदेश में उल्लेखित सभी कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल की पालना कराने के निर्देश दिए हैं। नेहरा ने सभी एसडीओ को मेडिकल एवं पुलिस अधिकारियों के साथ इन धार्मिक स्थलों का दौरा करने एवं धार्मिक स्थल प्रबन्धकों को इस बाबत जानकारी देकर पाबंद करने को कहा है। उन्होंने क्षेत्र में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य नियमों की समझाइश के बावजूद पालना नहीं करने वालों के चालान करने के लिए भी उपखण्ड अधिकारियों को निर्देशित किया। नेहरा ने शुक्रवार को जिला कलक्टे्रट से वीडियो कांफे्रंस के जरिए सभी उपखण्ड अधिकारियों को क्षेत्र में कोविड पॉजिटिव मरीजों के प्रबन्धन, कोविड संक्रमण से बचाव के लिए जनजागरूकता के लिए समझाइश, स्थानीय निजी अस्पतालों को कोविड मरीजों के इलाज के लिए प्रोत्साहित करने सहित कई निर्देश प्रदान किए। जिला कलक्टर ने कहा कि उपखण्ड क्षेत्र के जो धार्मिक स्थल 7 सितम्बर से आमजन के लिए खुलने हैं, उनके प्रबन्धकों को अपने धार्मिक स्थलों में राज्य सरकार के आदेश के अनुसार मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन, लाइन लगाने सहित सभी निर्देशों की पालना स्वयं के स्तर पर करनी होगी। जिला प्रशासन एवं पुलिस उनके द्वारा की गई व्यवस्थाओं की जांच कर सकेेगी और संतुष्ट नहीं होने पर या आदेशों का उल्लंघन होने पर धार्मिक स्थल को आमजन के लिए बंद कराया जा सकेगा। एसपी ग्रामीण शंकर दत्त शर्मा ने सभी पुलिस अधिकारियों को जिला प्रशासन, चिकित्सा विभाग एवं अन्य विभागों के अधिकारियों के साथ टीम भावना के साथ समन्वय बनाकर कोरोना की स्थितियों का मुकाबला करने को कहा। उन्होंने दिल्ली रोड पर शाहपुरा में स्लिप लेन को खाली करवाने एवं वहां खडे़ ट्रकों एवं अन्य वाहनों को हटाने को कहा जिससे कोरोना का प्वाइंट डवलप नहीं हो सके।
समझाइश के बावजूद नहीं मानने वालों के हों चालान
जिला कलक्टर नेहरा ने निर्देशित किया कि बचाव के उपायों के प्रति लापरवाही के कारण कोरोना का संक्रमण जिले में बढ रहा है, इसलिए अवेयरनेस पर जोर दिया जाए। जो व्यक्ति एवं दुकानदार समझाइश के बावजूद मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पालन नहीं करें, उनके चालान किए जाएं। इसके लिए सभी एसडीओ एवं तहसीलदार को चालान बुक दे दी गई हैं। साथ ही आयोजनों में निर्धारित से अधिक लोगों के शामिल होने पर नजर रखें। सभी को बताएं की नियमों की पालना ही संक्रमण से बचने का एकमात्र उपाय है।

छोटा रखें कन्टेन्मेंट जोन

नेहरा ने कहा कि इन्सीडेंट कमाण्डर के रूप में उपखण्ड अधिकारी चिकित्सा एवं पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर कन्टेन्टमेंट जोन का निर्धारण करें जो स्थानीय आवश्यकता के अनरूप 50 से 100 मीटर का क्षेत्र हो सकता है। इस क्षेत्र में भी आवश्यक आपूर्ति की दुकानेें चालू रहेंगी। लेकिन किसी बडे़ क्षेत्र में कन्टेन्मेंट जोन का निर्धारण करते समय जिला कलक्टर एवं पुलिस अधीक्षक की जानकारी में लाएं।
स्थानीय स्तर पर इलाज के प्रयास करें
जिला कलक्टर ने कहा कि सभी उपखण्ड अधिकारी अपने क्षेत्र में कोविड पॉजिटिव मरीजों के इलाज की क्षमता बढाने का प्रयास करें। माइल्ड लक्षणों वाले कोविड पॉजिटिव मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर चिन्हित करें।
निजी अस्पतालों को प्रोत्साहित करें ताकि उनका इलाज वहीं हो जाए और मरीज को जयपुर लाने की जरूरत नहीं पडे़। उन्होंने जयपुर में आरयूएचएस में भी जिला प्रशासन की ओर से एक हैल्प डेस्क लगाने के लिए एसडीओ सांगानेर को निर्देश दिए। ताकि यहां भर्ती मरीजों परिजनों को उनके मरीज की जानकारी मिल सके। साथ ही सभी उपखण्डों पर सीएचसी में ऑक्सीजन सिलेण्डर के साथ एक वाहन भी उपलब्ध रखने के निर्देश दिए।

Recent Posts

%d bloggers like this: