November 1, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सुशांत सिंह मौत मामले में NCB का बड़ा खुलासा, बताया रिया का भाई शॉविक कहां से खरीदता था ड्रग्स, जानिए रेड में क्या-क्या मिला?

मुंबई:- एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पहली गिरफ्तारियां हो गई हैं। सीबीआई के बाद इस मामले में जांच शुरू करने वाले नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने सुशांत के स्टाफ मैनेजर सैमुअल मिरांडा और रिया चक्रवर्ती के भाई शॉविक चक्रवर्ती को गिरफ्तार कर लिया है। इन्हें आज कोर्ट में पेश किया गया। आज NCB रिया से भी पूछताछ करेगी।

एनसीबी तीसरी केंद्रीय एजेंसी-

बता दें कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के बाद सुशांत की मौत की जांच में शामिल होने वाली एनसीबी तीसरी केंद्रीय एजेंसी है।

कोर्ट में एनसीबी की दलील-

मुंबई की एक अदालत में परिहार की पेशी के दौरान एनसीबी ने यह खुलासा किया। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग एंगल की जांच शुरू करने के बाद एनसीबी को यह जानकारी मिली। एनसीबी की दलील के बाद अदालत ने अब्दुल बासित परिहार को नौ सितंबर तक एनसीबी की हिरासत में भेज दिया।

कहां से खरीदता था ड्रग्स-

ड्रग्स एंगल की जांच कर रहे एनसीबी ने खुलासा किया है कि मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती का भाई शॉविक चक्रवर्ती गिरफ्तार किए गए तस्कर अब्दुल बासित परिहार से गांजा और मारिजुआना खरीदता था और इसके लिए गूगल पे अकाउंट के जरिए भुगतान करता था।
एनसीबी अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तार किये गए एक और तस्कर जैद विलात्रा ने ब्यूरो को दिए अपने बयान में खुलासा किया कि परिहार ‘रिसीवर’ का काम करता था और उसके पास से गांजा या मारिजुआना लिया करता था। परिहार ने अपने बयान में बताया है कि वह शॉविक के निदेर्शों के अनुसार, विलात्रा और कैजान इब्राहिम से मादक पदार्थ खरीदता था और सुशांत के घर के मैनेजर सैमुअल मिरांडा के पास भेजता था।
गूगल पे अकाउंट के जरिए किया जाता था भुगतान-
एनसीबी ने बताया कि ऐसे और भी उदाहरण हैं, जहां परिहार ने मादक पदार्थों की आपूर्ति की सुविधा दी और वह शॉविक के संपर्क में था। शॉविक मादक पदार्थों की खरीद के लिए गूगल पे अकाउंट के जरिए परिहार को भुगतान करता था। एनसीबी ने यह भी कहा कि एजेंसी द्वारा दर्ज किए गए बयान और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य से यह स्पष्ट है कि परिहार उच्चवगीर्य समाज के लोगों से जुड़े ड्रग सिंडिकेट का सक्रिय सदस्य है।
एनसीबी ने 27-28 अगस्त की दरम्यानी रात मुंबई में छापे मारे और अब्बास लखानी और करण अरोड़ा को गिरफ्तार किया। एनसीबी अधिकारियों ने इन लोगों के कब्जे से ‘बड’ (क्यूरेटेड मारिजुआना) जब्त किया। गौरतलब है कि मामले में संलिप्त लोगों के बीच कथित सोशल मीडिया संदेशों में कई बार ‘बड’ का उल्लेख किया गया था।
एनसीबी के एक अधिकारी ने बताया कि विस्तृत नेटवर्क विश्लेषण और जांच के बाद लखानी और विलात्रा के बीच संबंध उजागर हुए। उन्होंने बताया कि विलात्रा से पूछताछ के आधार पर परिहार से भी पूछताछ की गई। इस दौरान शॉविक और मिरांडा के साथ उसके संबंधों का पता चला।
बता दें कि परिहार को एनसीबी ने गुरुवार शाम को गिरफ्तार किया, जबकि विलात्रा को बुधवार को गिरफ्तार किया गया और अदालत ने उसे नौ सितंबर तक एजेंसी की हिरासत में भेज दिया है। उनके बयान के आधार पर एनसीबी ने अपने कायार्लय में शॉविक और मिरांडा से पूछताछ की। साथ ही दोनों के आवासों पर एनसीबी के अधिकारियों ने शुक्रवार सुबह तलाशी भी ली थी और शॉविक का लैपटॉप तथा मोबाइल फोन जब्त कर लिया था।

Recent Posts

%d bloggers like this: