October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

चुनाव में कटप्पा की एंट्री, राजद ने कहा नीतीश ने धोखा दिया जेडीयू बोली लालू ने जनता की पीठ पर छुरा घोंपा

पटना:- बिहार विधान सभा चुनाव में कटप्पा की एंट्री भी हो गई। दरअसल तेजस्वी यादव के समर्थकों ने फ़ेसबुक पर एक तस्वीर पोस्ट की है, जिसमें नीतीश कुमार को कटप्पा के गेटअप में दिखाया गया है, जो लालू प्रसाद यादव के गेट अप वाले व्यक्ति को तलवार से भेद रहा है। इस तस्वीर के माध्यम से उस समय की याद दिलाई गई है जब नीतीश कुमार ने राजद छोड़ कर भाजपा के सहयोग से राज्य में नई सरकार बना ली थी। इस तस्वीर से समझा जा सकता है की राजद के नेता आज तक महगठबंधन से नीतीश कुमार के अलग होने को स्वीकार नहीं कर पाए हैं। तेजस्वी हो या राजद के दूसरे बड़े नेता समय-समय पर नीतीश कुमार को विश्वासघाती कह कर हमला करते रहते हैं।
कटप्पा के गेटअप वाली तस्वीर पर राजद के नेता विजय प्रकाश ने कहा तस्वीर में ग़लत क्या है। ये बात तो बिहार की जनता अच्छे से जानती है कि कैसे लालू यादव की वजह से जीतने वाले नीतीश कुमार ने धोखा देकर भाजपा से हाथ मिला लिया, लेकिन इस बार के चुनाव में जनता पिछला सारा हिसाब-किताब पूरा कर लेगी। दरअसल 2015 में नीतीश कुमार ने महगठबंधन, जिसमें कांग्रेस और राजद शामिल थी, के साथ मिलकर सरकार बनाई थी। लेकिन दो साल के बाद ही नीतीश कुमार और लालू यादव में तेजस्वी यादव पर चल रहे भ्रष्टाचार के आरोप को लेकर दूरियां बढ़ती गईं, जिसका नतीजा यह हुआ कि नीतीश कुमार ने लालू यादव का साथ छोड़ दिया और भाजपा के साथ आ गए। इस बात को राजद नेता आज तक भूल नहीं पाए हैं और समय- समय पर नीतीश कुमार पर विश्वासघात का आरोप लगाकर हमला बोलते रहते हैं।
राजद नेता के नीतीश कुमार को विश्वासघाती कहने और कटप्पा के पोस्टर के बहाने हमला बोलने पर जेडीयू नेता और मंत्री नीरज कुमार ने कहा जो लोग सीएम नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हैं वे पहले अपने गिरेबां में झांक कर देखें। नीतीश कुमार की मदद से 2015 में सत्ता में आकर सत्ता का सुख भोगा और जब आय से अधिक मामले में फंस गए और नीतीश कुमार ने सिर्फ़ जनता के सामने आकर अपना पक्ष रखने की बात कही तो सांप सूंघ गया। जनता के पैसे को खाकर जेल की हवा खा रहे लालू यादव ने बिहार की जनता के पीठ में जो छुरा घोंपा है, उसे बिहार की जनता आज तक नही भूली है। फ़िल्म बाहुबली का एक पात्र कटप्पा ने अपने राजा को धोखे से पीठ पर वार कर हत्या कर दी थी। कटप्पा को धोखे का पर्याय मान कर विधान विधानसभा चुनाव में विरोधी दल के नेताओं पर हमले किए जा रहे हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: