October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सांसद साक्षी महाराज कोरेन्टीन मुक्त हो, अन्यथा बीजेपी करेगी आंदोलन-दीपक प्रकाश

कोरेन्टीन मम्मले में राज्य सरकार का दोहरा चरित्र

रांची:- झारखंड प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार पर कड़ा हमला बोलते हुए कहा कि हेमंत सरकार नियमो के अनुपालन में दोहरा चरित्र अपना रही है, प्रशासन भी कठपुतली बना हुआ है।
दीपक प्रकाश ने कहा कि कोरोना संकट के प्रारंभ से ही राज्य सरकार के इशारे पर पदाधिकारी चेहरा देखकर कार्रवाई कर रहे। जबकि पदाधिकारियों से सामान्य नागरिक से लेकर वीआईपी ,सत्ता पक्ष और विपक्ष सब के साथ नियमो के अनुपालन में एकरूपता की उम्मीद की जाती है।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के प्रारंभ में आम जनता घरों में बंद थी तो सरकार के मंत्री बसों में भरकर विदेशियों को भेजते हुए नियमो की धज्जियां उड़ा रहे थे। उन्होंने कहा कि नेता विधायकदल बाबूलाल मरांडी और उन्हें दिल्ली से लौटने पर 14 दिन की कोरेन्टीन में भेजा जाता है, जबकि कांग्रेस केप्रदेश सह प्रभारी दिल्ली से रांची आकर संगठन की बैठक लेते है,कार्यक्रमो में शामिल होते हैं फिर भी उन्हें दिल्ली वापस जाने दिया जाता है। उन्होंने कहा कि अभी राज्य के एक मंत्री को कोरोना पॉजिटिव होने पर पूरा कैबिनेट को कोरेन्टीन होने का निर्देश दिया जाता है फिर भी कई मंत्री खुलेआम घूम रहे है,कार्यक्रमो में भी शामिल हो रहे हैं।
उन्होंने कहा कि ये कैसा नियम है जिसमे कांग्रेस पार्टी के लोग जिसमे सरकार के मंत्री भी शामिल हैं सहित सैकड़ों की संख्या में राजभवन के सामने धरना देकर राजनीतिक कार्यक्रम करते हैं और प्रशासन मूक दर्शक बना रहता है। राजद नेता काफिला लेकर लालू प्रसाद से मिलने पटना से रांची आते है,सड़क पर हंगामा कराते है,मिलकर वापस जाते है प्रशासन मूक दर्शक बना रहता है। कोरेन्टीन के नियम धरे रह जाते हैं।
दीपक प्रकाश ने कहा कि सांसद साक्षी महाराज निजी कार्यक्रम में शामिल होने गिरिडीह आए थे और आज लौट रहे थे ऐसे में उन्हें अपराधी की तरह बैरिकेटिंग करके रोकना ,फिर कोरेन्टीन करना राज्य सरकार की राजनीतिक प्रतिशोध से युक्त दोहरी नीति का परिचायक है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार यदि उन्हें कोरेन्टीन से मुक्त नही करती तो प्रदेश बीजेपी हेमंत सरकार के दोहरे चरित्र के खिलाफ जोरदार आंदोलन करेंगी।उन्होंने प्रशासनिक पदाधिकारियों को भी आगाह किया कि वे कठपुतली बनने से बाज आएं।

Recent Posts

%d bloggers like this: