September 23, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

स्टाम्प ड्यूटी (मुद्रांक शुल्क) भुगतान करने के लिए नई व्यवस्था

जमशेदपुर:- जिला निबंधन कार्यालय, जमशेदपुर में आज जिला अवर निबंधक प्रफुल्ल कुमार की अध्यक्षता में अधिवक्ता, दस्तावेज नवीस एवं मुद्रांक विक्रेता के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत किया गया जिसमें स्टाम्प ड्यूटी (मुद्रांक शुल्क) के विषय में विस्तृत चर्चा की गई।
जिला अवर निबंधक द्वारा उपस्थित सदस्यों को बताया गया कि दस्तावेज निबंधन करने हेतु स्टाम्प ड्यूटी (मुद्रांक शुल्क) का भुगतान करना आवश्यक है। वर्तमान में स्टाम्प ड्यूटी (मुद्रांक शुल्क) का भुगतान तीन तरह (पेपर स्टाम्प, ई-स्टाम्प, ई-ग्रास के माध्यम से ऑनलाईन भुगतान) से होता है जिसमें पेपर स्टाम्प की बिक्री कोषागार एवं मुद्रांक विक्रेताओं के द्वारा की जाती है। ई-स्टाम्प का विक्रय स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के माध्यम से किया जाता है। उन्होने बताया कि 04 सितंबर 2020 के उपरांत स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के प्राधिकरण को समाप्त कर दिया गया है जिसके कारण उनके द्वारा ई-स्टाम्प की बिक्री अब नहीं की जाएगी। वहीं ई-ग्रास के माध्यम से मुद्रांक शुल्क का भुगतान करने हेतु पक्षकार द्वारा छंजपवदंस ळमदमतपब क्ममक त्महपेजतंजपवद ैलेजमउ अन्तर्गत लॉग-इन किया जाएगा तथा शुल्क जमा करनेवाले व्यक्ति का नाम, पता शुल्क जमा करने का प्रयोजन आदि की इंट्री की जाएगी तथा डेबिट कार्ड/क्रेडिट कार्ड/नेट बैंकिग/ई-चालान आदि के माध्यम से शुल्क का भुगतान किया जाएगा। ई-ग्रास मॉड्यूल द्वारा शुल्क का भुगतान केवल दस्तावेज निबंधन कार्य के लिए ही किया जाएगा।
4सितंबर के उपरांत मुद्रांक शुल्क का भुगतान पक्षकार कोषागार एवं मुद्रांक विक्रेताओं द्वारा बिक्री किये गये पेपर स्टाम्प के द्वारा किया जा सकता है अथवा ई-ग्रास के माध्यम से मुद्रांक शुल्क का ऑनलाईन भुगतान कर सकते हैं। चार सितंबर के उपरांत ई-स्टाम्प की बिक्री नहीं की जाएगी तथापि स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के प्राधिकरण समाप्ति के पूर्व क्रयित ई-स्टाम्प वैध होंगे तथा उनका उपयोग बाद में भी किया जा सकता है। अर्थात् चार सितंबर के उपरांत पूर्व में जारी/विक्रित ई-स्टाम्प का प्रयोग किया जा सकता है।
बैठक में उपस्थित सदस्यों को जिला अवर निबंधक द्वारा ई-ग्रास मॉड्युल से मुद्रांक शुल्क भुगतान का चरणबद्ध एवं विस्तृत विवरण दिया गया तथा उनके द्वारा उठाये गये समस्याओं का समाधान किया गया। मौके पर कुछ मुद्रांक विक्रेता जिन्होंने ई-ग्रास के माध्यम से मुद्रांक शुल्क का भुगतान किया है उन्होने अपना अनुभव भी उपस्थित सभी सदस्यों के साथ साझा किया

Recent Posts

%d bloggers like this: