October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

14 सितंबर से शुरू होगा संसद का मानसून सत्र, महज इतने घंटे पहले कराया जाएगा सांसदों का कोरोना टेस्ट, जानिए किन नियमों का करना होगा पालन

नई दिल्ली:- कोरोना संकट के कारण टलता रहा संसद का मानसून सत्र आखिरकार 14 सितंबर से शुरू होगा। संसदीय मामलों की कैबिनेट कमेटी ने 14 सितंबर से 1 अक्टूबर तक संसद सत्र को चलाने का प्रस्ताव रखा है। इस दौरान दोनों सदनों में कोरोना वायरस महामारी के कारण काफी सावधानियां बरती जाएंगी। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने कहा है कि वे सत्र से 72 घंटे पहले सभी सांसदों को अपना कोरोना टेस्ट कराने को कहेंगे।
सूत्रों के मुताबिक संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा का सत्र बिना किसी छुट्टी के होगा और दैनिक आधार पर दोनों सदन अलग-अलग समय पर कुछ घंटे का कामकाज करेंगे। मानसून सत्र में 18 कार्य दिवस होंगे। यह फैसला रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली संसदीय मामलों से जुड़ी मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक में लिया गया।
कोरोना महामारी के चलते इस बार का सत्र अलग ढंग से संचालित होगा जिसमें सामाजिक दूरी बनाने के नियमों का पालन किया जाएगा। दोनों सदनों के साथ आगंतुक गैलरी का भी इस्तेमाल किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक इस संबंध में तेजी से तैयारियां की जा रही।

सत्र चलाने के लिए बनाए गए ये नियम-

-सदन की कार्यवाही में सभी भागीदारी तय करने के लिए गैलेरी की सीट्स को कंसोल्स के साथ फिट किया जा रहा है। प्ले-कार्ड्स राज्यसभा की गैलेरी में पार्टियों को इंडीकेट करेंगे।
-दोनों सदनों को जोड़ने के लिए स्पेशल केबल का इस्तेमाल किया जाएगा, जिससे कार्यवाही के ऑडियो-विजुअल बिना देरी के दोनों हाउस के बैठे मेंबर्स तक पहुंचे। स्पेशल केबल से मेंबर्स के रियल टाइम पार्टिसिपेशन में मदद मिलेगी।
-राज्यसभा सचिवालय ने बताया कि राज्यसभा की ऑफिशियल्स गैलेरी को चेंबर से अलग करने के लिए पॉलीकार्बोनेट शीट्स का इस्तेमाल किया जाएगा।
-एयर कंडिशनिंग सिस्टम में अल्ट्रावॉइलेट जर्मिसिडल इर्रेडिएशन सिस्टम का इस्तेमाल पर भी विचार किया जा रहा है, जिससे एयर सप्लाई में बैक्टीरिया और वायरस को खत्म किया जा सके।
-ऑफिशियल गैलरी और प्रेस गैलरी में भी सोशल डिस्टेंसिंग नॉर्म्स का पालन किया जाएगा। इनमें 15 लोगों को बैठाया जाएगा।

गैलरी में भी बैठे दिखेंगे सांसद-

लोकसभा और राज्यसभा में सांसदों के बैठने के लिए विशेष व्यवस्था की जाएगी, जिसके तहत मौजूदा सीटों के अलावा गैलरी में भी सांसद बैठते हुए दिखाई देंगे। राज्यसभा सचिवालय के मुताबिक, संसद गैलरी और चेंबर दोनों जगह बैठेंगे। इसकी तैयारी बहुत पहले से चल रही थी।

1952 के बाद पहली बार होगा ऐसा-

संसद के इतिहास में 1952 के बाद ऐसा पहली बार होगा जब इस तरह की व्यवस्था की जाएंगी। राज्यसभा में इस दौरान 60 सदस्य चेंबर में बैठेंगे, 51 गैलरी में और बाकी 132 को चेंबर में बैठाया जाएगा। इसी तरह का सिस्टम लोकसभा में भी लागू किया जाएगा।
फिलहाल के फैसले के अनुसार मानसून सत्र के दौरान किसी भी दिन अवकाश नहीं होगा। हालांकि इस संबंध में अंतिम फैसला सर्वदलीय बैठक के बाद किया जाएगा। कुछ विपक्षी दलों का कहना है कि वे 18 कार्यदिवस के कार्य के लिए तैयार हैं, हालांकि वह सप्ताहिक अवकाश की व्यवस्था बनाए रखने के पक्ष में है। उनका कहना है कि इसके लिए सत्र को एक सप्ताह आगे बढ़ाया जा सकता है। वहीं सरकार का कहना है कि कोरोना के दौरान सत्र आयोजित करना एक बड़ी चुनौती है।

Recent Posts

%d bloggers like this: