October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

उच्च शिक्षा में विद्यार्थियों की जरूरतें व रूचि का ख्याल रखा गया है-राज्यपाल

रांची:- राज्यपाल-सह-राज्य के विश्वविद्यालयों की कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि अधिक-से-अधिक लोग उच्च शिक्षा ग्रहण कर सकें, उन्हें गुणात्मक एवं शोधपरक शिक्षा सुलभ हो। इस दृष्टि से नई शिक्षा नीति- 2020 पंचायत से संसद तक विमर्श के उपरांत हमारे समक्ष आई है। इसमें विद्यार्थियों की आवश्यकताओं एवं रूचि का ख्याल रखा गया है। इसमें पढ़ाई, शोध के साथ अन्य गतिविधियों कला, संस्कृति, खेलकूद का भी ध्यान रखा गया है। इस शिक्षा नीति के माध्यम से सभी वर्गों तक उच्च शिक्षा पहुँचाने का प्रयास किया गया है। इस शिक्षा नीति के माध्यम से व्यवसायिक-रोजगारपरक शिक्षा की दिषा में भी ध्यान दिया गया है। कहा जाय तो इस षिक्षा नीति के माध्यम से शिक्षा जगत में कई व्यापक पहल किये गये हैं जिसे सकारात्मक मूर्त रूप प्रदान करना हमारे शिक्षण संस्थानों का अहम दायित्व है। हमारे शिक्षण संस्थानों से अपेक्षा है कि विद्यार्थियों से बेहतर संवाद स्थापित कर उन्हें प्रेरित करें। राज्यपाल 7 सितम्बर को राष्ट्रपति द्वारा वीडियोकॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से विभिन्न राज्य-केन्द्र शासित प्रदेशों के राज्यपालों,उप राज्यपालों,प्रशासकों के साथ ‘‘नई षिक्षा नीति- उच्च शिक्षा में परिवर्तन’’ पर चर्चा से पूर्व आज इस विषय पर राज्य के विभिन्न विष्वविद्यालयों के कुलपति-प्रतिकुलपति से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से राय एवं प्रतिक्रिया ले रही थी। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से आहुत इस समीक्षा बैठक में राज्यपाल के प्रधान सचिव-सह-प्रधान सचिव, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा शैलेश कुमार सिंह, राँची विश्वविद्यालय, विनोबा भावे विश्वविद्यालय, सिदो कान्हु विष्वविद्यालय, नीलाम्बर-पीताम्बर विष्वविद्यालय, कोल्हान विश्वविद्यालय, विनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्वविद्यालय के कुलपति एवं प्रतिकुलपति तथा डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के कुलपति और झारखंड राज्य तकनीकी विवविद्यालय के कुलपति मौजूद थे।
राज्यपाल ने कहा कि नई षिक्षा नीति सभी वर्गों, नारी शिक्षा पर बल देने के साथ समावेशी शिक्षा की ओर ध्यान दिया गया है। मातृभाषा का ध्यान रखा गया है। इसके साथ डिजिटल एजुकेशन पर भी बल दिया गया है। हमारे विद्यार्थी इस प्रतिस्पर्धा के युग में विश्व में अपना कैसे अहम स्थान बना पायें, इसका प्रयास किया गया है। भारत को पुनः विश्वगुरू के रूप में स्थापित करना है। यह हम सभी का सपना है। प्रधानमंत्री ने इस ओर गंभीरता से ध्यान देते हुए ऐसी अनुकूल शिक्षा नीति की पहल की। इसके लिए केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री एवं आयोग के अध्यक्ष कस्तूरीरंगन बधाई के पात्र हैं।
इस अवसर पर रांची विश्वविद्यालय के कुलपति वविद्यालय के कुलपति ने कहा कि यह शिक्षा नीति 21वीं सदी की प्रथम नीति है जो शिक्षा के क्षेत्र में हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। यह मैकाले के प्रभाव से मुक्त ग्राम पंचायत तक के सुझावों से प्राप्त कर बनाया गया है। नई शिक्षा नीति में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति सहित सभी वर्गों की शिक्षा पर ध्यान दिया गया है। इसमें नवीन अनुसंधान पर बल देने के साथ सकल घरेलू उत्पाद 6ः व्यय करने का लक्ष्य रखा गया है। यह राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था को समृद्ध करने में भी सहायक होगा। ऐसी शिक्षा नीति झारखण्ड की कला-संस्कृति को समृद्ध करेगा। विनोबा भावे विश्वविनोबा भावे विश्वविद्यालय के कुलपति ने कहा कि वर्तमान में हमारी उच्च शिक्षा की गुणवत्ता संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और अन्य विकसित देशों जैसी नहीं है। ऐसे में यह षिक्षा नीति अहम हो सकता है, हमारे उच्च श्क्षिण संस्थानों को सकारात्मक कदम उठाने होंगे। विनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्विद्यालय के कुलपति कुलपति ने कहा कि नई शिक्षा नीति भारत की मिट्टी से जुड़ा है। नई शिक्षा नीति में महाविद्यालय की ऑटोनोमी पर ध्यान दिया गया है। विश्विद्यालय को भी तीन श्रेणी में विभक्त किया गया है। आईआई.टी. और आई.आई.एम. जैसे शिक्षण संस्थान और खुलेंगे। मिशन नालंदा और मिशन तक्षशीला की बात कही गई है। डा0 श्यामा प्रसाद डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के कुलपति ने कहा कि यह शिक्षा नीति पारंपरिक भारत में शोध पर आधारित है। हमारा देश विविधताओं का प्रदेश है। यहाँ भौगोलिक, भाषायी, रीति-रिवाज़ में भिन्नता है। इसके अंतर्गत मातृभाषा में शिक्षा प्रदान करना सराहनीय है। व्यवसायिक षिक्षा पर भी बल दिया गया है। इस नई शिक्षा नीति के माध्यम से अनुस ंधान के द्वारा लोकल से ग्लोबल और लोकल के वोकल पर भी जोर दिया गया है। कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलपति ने विभिन्न शिक्षा आयोगों और नीतियों पर चर्चा करते हुए कहा कि इसके अंतर्गत यूजीसी और आईसीटीई को एकीकृत किया गया है। कौशल विकास पर भी ध्यान दिया गया है। इसमें सभी कलाओं होटल मैनेजमेंट से लेकर ब्यूटी पार्लर तक अन्य सभी कलाओं का भी ध्यान रखा गया है। चार वर्षीय डिग्री के मध्य बच्चे यदि किसी कारणवष बीच में ही पढ़ाई छोड़ देते हैं तो उन्हें उनकी अवधि के मुताबिक कोई न कोई डिग्री अवष्य मिलेगी ताकि वे रोजगार हासिल कर सकें। शिक्षण में सिद्धांत और प्रायोगिक पर बल दिया गया है। नीलाम्बर-पीताम्बर विष् नीलाम्बर-पीताम्बर विष्वविद्यालय वविद्यालय के कुलपति द्वारा कहा गया कि इस शिक्षा नीति में प्राचीन और नवीन शिक्षा पर जोर दिया गया है। नये शिक्षण संस्थान खुलेंगे। ये शिक्षा नीति हमारे राज्य के लिए वरदान होंगे जहाँ विद्यार्थी मातृभाषा में शोध कर सकेंगे। इस शिक्षा नीति के माध्यम से सभी भारतीय भाषाओं के उत्थान पर बल दिया गया है। सिदो कान्हु मूर्मू विष् सिदो कान्हु मूर्मू विश्वविद्यालय की कुलपति ने कहा कि यह शिक्षा नीति ससमय है। इसमें उच्च षिक्षा में परिवतर्न और गुणात्मक बनाने की बात कही गई है। इसके अंतर्गत सीखने वाले की इच्छा को ध्यान रखा गया है। व्यवसायिक व वाणिज्यिक शिा और बहुआयामी बनेगा। इसके माध्यम से अन्वेषणात्मक विचार एवं शोध को विकसित करने पर बल दिया गया है। सीखने वाले की इच्छा के अनुसार पढ़ाई के अतिरिक्त अन्य गतिविधियों यथा- खेलकूद, कला-संस्कृति आदि की बात कही गई है। विष्वविद्यालय भी सबल बनेगगा ताकि इसका कार्यान्वयन किया जा सक े। झारखंड राज्य तकनीकी विश्वविद्यालय वविद्यालय वविद्यालय कुलपति ने कहा कि षिक्षा का उद्देष्य अच्छे इंसान बनाना है जिसके पास नेक सोच हो, सामाजिक, सैद्धांतिक एवं नैतिक मूल्य हो। छात्र-शिक्षक के मध्य संवादहीनता को दूर करना होगा। षिक्षक समाज का निर्माण करता है। वे बच्चों को अच्छी षिक्षा दें तथा समर्पित भाव से पढ़ायें। उन्होंने कहा कि मैकाले की षिक्षा नीति भारत में प्रास ंगिक नहीं थी। यह शिक्षा नीति देश को नई ऊँचाइयों को छूयेगा। उन्होंने कहा कि हम सभी को आज भारतरत्न पंडित मदन मोहन मालवीय को अपना आदर्ष एवं प्रेरणास्रोत बनाना होगा जिन्होंने अपनी लगन और निष्ठा से बनारस हिन्दू विश्विद्यालय को समर्पित भाव से एक आदर्ष विश्ववद्यालय के रूप में खड़ा कर दिया।

Recent Posts

%d bloggers like this: