September 23, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

देश-विदेश के 150 शिक्षाविदों ने जेईई-नीट परीक्षा कराये जाने के समर्थन में प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

परीक्षाओं को अब और टालने से छात्रों का भविष्य होगा प्रभावित

राजनीतिक एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए हो रहा है विरोध

नई दिल्ली:- देश और विदेश के 150 से अधिक शिक्षाविदों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जेईई-नीट परीक्षा कराये जाने के समर्थन में पत्र लिखकर कहा है कि परीक्षाओं को अब और टालने से छात्रों का भविष्य प्रभावित होगा। युवाओं और छात्रों के सपनों व भविष्य के साथ किसी भी कीमत पर समझौता नहीं किया जाना चाहिए। शिक्षाविदों ने प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग पर चिंता जताते हुए कहा कि कुछ लोग छात्रों के भविष्य के साथ खेलने की कोशिश कर रहे हैं ताकि वे अपने स्वयं के राजनीतिक एजेंडे को आगे बढ़ा सकें और सरकार का विरोध कर सकें। उन्होंने कहा कि हम शैक्षणिक बिरादरी के सदस्य जेईई और नीट परीक्षा आयोजित करने के केंद्र सरकार के फैसले का पूरी तरह से समर्थन करते हैं। पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू), इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू), लखनऊ विश्वविद्यालय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू), भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली और विदेशों से यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, हिब्रू यूनिवर्सिटी ऑफ यरुशलम और इजराइल के बेन गुरियन विश्वविद्यालय के भारतीय शिक्षाविद शामिल हैं। शिक्षाविदों ने युवाओं और छात्रों को राष्ट्र का भविष्य बताते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण उनके करियर पर अनिश्चितता के बादल छा गए हैं। प्रवेश और कक्षाओं के बारे में बहुत सारी आशंकाएं हैं जिन्हें जल्द से जल्द हल करने की आवश्यकता है। पत्र में कहा गया है कि हर साल की तरह इस साल भी लाखों छात्रों ने कक्षा 12 की परीक्षाएं दी हैं और अब प्रवेश परीक्षाओं के लिए उत्सुक हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी इन परीक्षाओं को स्थगित करने की याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि परीक्षाओं के संचालन में किसी भी तरह की देरी से छात्रों के कीमती वर्ष की बर्बादी होगी। शिक्षाविदों ने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री मोदी के सक्षम नेतृत्व में केंद्र सरकार जेईई और नीट परीक्षाओं का सफलतापूर्वक संचालन करेगी, ताकि छात्रों के भविष्य का ध्यान रखा जा सके और 2020-21 के लिए अकादमिक कैलेंडर को शुरू किया जा सके। उल्लेखनीय है कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा (मुख्य) एक से छह सितंबर और राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) 13 सितंबर को आयोजित की जाएगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: