November 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बिना मास्क के घूमने वाले पर लगेगा जुर्माना, तीसरी बार पकड़े जाने पर किया जाएगा होम क्वारंटाइन

चाईबासा:- पश्चिमी सिंहभूम जिला उपायुक्त अरवा राजकमल एवं पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा के संयुक्त अध्यक्षता में ई-मुलाकात ऐप के सहयोग से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा जिले के सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी, थाना प्रभारी के साथ बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में मुख्य रूप से कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु किए जा रहे प्रयास, प्रवासी मजदूरों का निबंधन तथा मनरेगा के तहत् संचालित योजनाओं से संबंधित प्रमुख बिंदुओं पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई। समाहरणालय परिसर स्थित एनआईसी सभागार होस्ट स्टूडियो में आयोजित उक्त बैठक में जिले के उप विकास आयुक्त आदित्य रंजन, सदर अनुमंडल पदाधिकारी -सह- जिला परिवहन पदाधिकारी परितोष कुमार ठाकुर, सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी श्री अमर कुमार पांडे एवं श्रम कार्यालय के पदाधिकार-कर्मचारी उपस्थित रहे।
बैठक के उपरांत उपायुक्त के द्वारा जानकारी दी गई कि विगत दिनों संपूर्ण तालाबंदी के दौरान जो प्रवासी श्रमिक भाई-बहन दूसरे राज्यों से वापस आए हैं, वह पुनः वापस जाने के लिए टेलिफोनिक संपर्क भी कर रहे थे तथा कुछ जनप्रतिनिधि के द्वारा भी वापस जाने की प्रक्रिया से संबंधित प्रश्न पूछे गए हैं। उन्होंने बताया कि प्रवासी श्रमिकों को श्रम विभाग के ओर से इसके लिए दो तरह के कार्ड लाल कार्ड तथा हरा कार्ड दिया जाते हैं। इसके लिए उन्हें तय प्रपत्र में हस्ताक्षर कर तथा अपने आधार कार्ड की छाया प्रति लगाते हुए अपने संबंधित पंचायत सेवक को उपलब्ध करवाते हुए वो जरूर जा सकते हैं। व्यक्तिगत रूप से कार्य हेतु जो दूसरे राज्य जा रहे हैं उन्हें लाल कार्ड और जो 5 व्यक्ति से अधिक के समूह में किसी नियोजक-कंपनी में कार्य करने के लिए जाना चाहते हैं तो उनके लिए हरा कार्ड निर्गत किया जाएगा। उन्होंने बताया कि उपर्युक्त सभी जानकारी विस्तृत रूप से बैठक के दौरान प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी को दिया गया है तथा संबंधित आवेदन प्रपत्र भी उपलब्ध करवाया गया है। पूरे जिले में लगभग 12,000 की संख्या में लाल कार्ड एवं हरा कार्ड को भी आज ही प्रखंड तक वितरित किया जा रहा है एवं आगामी दिन से पंचायत सेवक भी कार्ड उपलब्ध करवाने में सक्षम होंगे। उन्होंने कहा कि कार्ड प्राप्त करने हेतु किसी भी श्रमिक भाई-बहन को जिला श्रम कार्यालय में चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं होगी, इसके लिए पूरी प्रक्रिया को जिले में विकेंद्रित किया गया है।
उपायुक्त ने बताया कि श्रम विभाग द्वारा निर्गत कार्ड के साथ कार्य करने हेतु बाहर जाने से अगर भविष्य में आपको कोई समस्या होती है तो उसी कार्ड में संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी का संपर्क सूत्र भी रहेगा और आपका संपर्क सूत्र और कार्य करने हेतु आप किस स्थान पर जा रहे हैं इसकी पूरी जानकारी जिला प्रशासन के पास उपलब्ध रहेगी। किसी भी परिस्थिति में आपके या आपके परिवार के साथ दुर्भाग्यवश कोई घटना घट जाती है तो केंद्र सरकार-राज्य सरकार के द्वारा आपको जो देय लाभ होगा उसे प्रशासन आप तक जरूर पहुंचाएगा।
उपायुक्त ने बताया कि आज के बैठक में अंतर राज्य सीमा पर दूसरे राज्य से बहुत सारे लोग का आवागमन होता है। ऐसे लगातार गतिविधि रखने वाले लोगों पर नज़र रखने हेतु अनुमंडल पदाधिकारी को निर्देशित किया गया है तथा इसके साथ ही पूरे ज़िला में भी सभी बिंदुओं पर चेक पोस्ट की व्यवस्था शुरू की जाएगी और जहां भी कंटेंनमेंट जोन बना है उसे न्यूनतम 14 दिनों तक रखना है तथा घर-घर सर्वे करते हुए उनके लक्षणों की जांच भी करवानी है। उक्त बातों से संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं थाना प्रभारी को दिये गये हैं।
उपायुक्त ने बताया कि कोई भी व्यक्ति बिना मास्क के शहरी क्षेत्र में विशेषकर जहां घनी आबादी रहती है तो वैसे क्षेत्रों में अगर घूमते हैं तथा वह पकड़े जाते हैं तो शहर में ऐसे व्यक्तियों पर ₹50 जुर्माना करने के संबंध में सभी अनुमंडल पदाधिकारी के साथ चर्चा की गयी है। 133 सीआरपीसी के तहत् यह आदेश भी निकाला जाएगा जिसमें जो लोग पब्लिक हेल्थ को संकटग्रस्त करने की कोशिश करते हैं और बिना मास्क घनी आबादी क्षेत्र में घूमते हैं तो वैसे व्यक्ति को प्रथम बार में ₹50 तथा द्वितीय बार में पकड़े जाने पर ₹100 एवं तृतीय बार पकड़े जाने पर उन्हें स्टांप लगाते हुए आवश्यकता होने पर होम क्वॉरेंटाइन भी किया जाएगा।

उपायुक्त ने बताया कि प्रशासन के द्वारा प्रतिदिन कोरोना वायरस से संबंधित बुलेटिन जारी किया जा रहा है। जिले में जितने भी इनफ्लुएंज़ा जैसे लक्षण से ग्रसित लोग हैं उनका चिन्हितीकरण भी हो गया है। उसमें 573 व्यक्तियों का नमूना संग्रह करने की प्रक्रिया आगे बढ़ी है, इसलिए किसी को भी अफ़वाह पर ध्यान नहीं देना है। अपना जीवन अब आगे बढ़े और केवल सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का प्रयोग नियमित रूप से करें।

Recent Posts

%d bloggers like this: