November 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सर्पदंश से मासूम की मौत,इलाज करना तो दूर भर्ती करना भी उचित नही समझा डॉक्टर

पिता दिखाता रहा सांप, डॉ सांप काटने की बात से करता रहा इंकार

चतरा:- चिकित्सक को भगवान का दर्जा दिया गया है। परन्तु जब यही चिकित्सक इंसान को जिंदगी देने के बजाय मौत देने लगे तो इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या हो सकता है। जी हां कुछ ऐसा ही वाक्या मंगलवार की सुबह सदर अस्पताल में देखने को मिला। दरअसल में सदर प्रखंड के खाप गांव निवासी राजू भारती की पत्नी व दूध मुही बच्ची सोमवार की रात को घर मे ही जमीन पर सोए हुए थे। इसी दौरान सुबह के करीब 4 बजे करैत सांप ने डँस लिया। दोनो को आनन फानन में उपचार के लिए करीब 5 बजे सदर अस्पताल लाया गया। उस समय ड्यूटी पर डॉक्टर राजीव रंजन तैनात थे। उन्होंने सांप नहीं काटने की बात कहकर पीड़ित का उपचार करने के बजाय उन्हें डांट फटकार कर घर भगा दिया। परिजन लाख मारे गए सांप को दिखाते रहे परन्तु डॉ राजीव रंजन ने इसे नही मानते हुए उपचार ही नहीं किया। ऐसे में घर जाते जाते मासूम बच्ची की मौत हो गई। इसके बाद राजू भारती दुबारा अपनी पत्नी को उपचार के लिये सदर अस्पताल लेकर आया। तब तक रोस्टर बदल गया था। ड्यूटी पर तैनात डॉ अरविंद केशरी ने महिला का उपचार करना शुरु कर दिया है।

अरविंद केसरी ने बताया कि महिला का उपचार किया जा रहा है। अगर स्थिति नियंत्रण से बाहर हुई तो इसे बाहर भेजा जा सकता है।

वहीं पूर्व मुखिया मो इकबाल ने बताया कि डॉ की लापरवाही के कारण बच्ची की जान चली गई। उन्होंने जिला प्रशासन व सरकार से ऐसे डॉक्टर को यहां से हटाये जाने की मांग की है।

इधर घटना के बाबत उपायुक्त जितेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। डॉक्टर राजीव रंजन के बारे में पूर्व में भी कई शिकायतें मिली है । इनके विरुद्ध विभाग को लिखा गया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: