December 6, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पकडे गए अपराधियों की पहले कराये कोरोना जाँच : उपायुक्त

हजारीबाग:- उपायुक्त डॉ भुवनेश प्रताप सिंह व पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस की अध्यक्षता में खनन टास्क फोर्स, नीलाम पत्र,सड़क सुरक्षा,कार्य सुरक्षा समिति,यूनिफाइड कमांड, 13वें वित्त, पशु क्रूरता निवारण,एवं एससीए की समीक्षात्मक बैठक बुधवार को नगर भवन में की गई। उपायुक्त ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण की गति में तेजी आई है और कुछ पुलिसकर्मी भी संक्रमण के शिकार हुए हैं जिसके कारण कुछ थानों को बंद करने की नौबत आ गई है,इस संबंध में उपायुक्त ने सभी थाना को एसओपी बनाने की बात कही,उन्होंने कहा कि कोरोना काल में अपराधियों को पकड़ने के लिए पुलिस अधिकारी आवश्यक सभी सुरक्षात्मक उपाय अपनाएं अपराधी भी संक्रमित हो सकते हैं तथा उनके संपर्क में आने से पुलिस में भी संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है इसलिए जब भी पुलिस अधिकारी किसी अपराधी को पकड़े तो उन्हें थाना ले जाने से पूर्व सदर अस्पताल ले जाए जहां उनकी ट्रू नेट के माध्यम से कोविड-19 की जांच की जा सके। उन्होंने कहा प्रखंड स्तर पर बीडीओ,एमओआईसी,थाना प्रभारी को भी निर्देशित किया गया है,अगर रात के समय अपराधी पकड़े जाते हैं तो उन्हें सुबह होने तक प्रखंडों में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में रखें और सुबह होने के उपरांत उन्हें कोविड-19 टेस्ट करवाने के बाद ही कारागार में भेजें। इस संबंध में बीडीओ को प्रखंडों में बनाए गए दाल भात केंद्र में पकड़े गए अपराधियों को रखने की भी बात कही। उन्होंने कहा बरही अनुमंडल अस्पताल में ट्रूनेट लैब मशीन की अधिष्ठापन की जाएगी। उन्होंने मौजूद सभी पुलिस अधिकारियों को जेएसएलपीएस द्वारा निर्मित पीपीई किट का प्रयोग करने को कहा ताकि प्रारंभिक रूप से संक्रमण से बचाव हो सके। वहीं पुलिस अधीक्षक ने भी पुलिस को ग्लब्स,मास्क,सैनिटाइजर आदि के निरंतर प्रयोग करने को कहा तथा गाड़ी, हथकड़ी आदि को नियमित सैनिटाइज करने का निर्देश दिया। साथ ही ज्यादा सतर्कता के साथ कार्यो के निष्पादन की भी बात कही,हर थाने पर थर्मल स्कैनर लगाते हुए सभी व्यक्तियों की सूची बनाने की भी बात कही। सोशल डिस्टेंसिंग उल्लंघन मामले पर प्राथमिक दर्ज करने की कवायद पर तेजी लाने को कहा ताकि आमजन पर इसका प्रभाव पड़ सके।
मौके पर उपायुक्त ने एससीए (विशेष केंद्रीय सहायता) के चर्चा करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम के तहत रोजगार निर्माण,रोजगार, महिला सशक्तिकरण आदि को लेकर लाभुकों को बकरी,गाय,मुर्गी पालन आदि योजना का लाभ मुहैया कराते हुए बीडीओ को इसके लिए कैटल शेड उपलब्ध कराने सहित पशुपालन पदाधिकारी को पशुपालन के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाने को कहा।
खनन संबंधी विषय पर चर्चा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि करीब 70000 प्रवासी मजदूर के लौटने के बाद निर्माण कार्यों में तेजी लाकर उनका रोजगार मुहैया कराना है जिसके लिए बालू उठाव कार्यों में किसी भी प्रकार की अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। वही बालू की किल्लत संबंध पर संबंधित अधिकारी जिम्मेदार होंगे। बालू की ढुलाई केवल ट्रैक्टर पर होगी हाईवा व अन्य बड़े वाहनों पर बालू की ढुलाई प्रतिबंधित है साथ ही उन्होंने कहा कि अवैध बालू गाड़ी पकड़े जाने पर उनको छोड़ने की अनुमति उपायुक्त से लेनी होगी,इस बाबत अंचलाधिकारी को जब्त गाड़ियों को थाने में खड़ी करने का निर्देश दिया। अवैध क्रशर के संचालन को रोकना है तथा वन अधिकार क्षेत्र में लगे क्रशर को ध्वस्त करने का भी निर्देश दिया ।
पशु क्रूरता की चर्चा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि सदर बीडीओ को 12 एकड़ भूमि चिन्हित करने को कहा गया है ताकि आवारा पशु,गायों के रखरखाव के लिए पशुपालन विभाग द्वारा जीव जंतु कल्याण बोर्ड को जमीन मुहैया कराकर वैसे पशुओं को वहां रखकर उनकी देखभाल की जा सके।
मौके पर डीडीसी विजया जाधव,सदर व बरही एसडीओ,अपर समाहर्ता प्रदीप तिग्गा,डीआरडीए निदेशक उमा महतो,बीडीओ/सीओ व थाना प्रभारी उपस्थित थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: