December 1, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

इन हाथों में ऐसा हुनर कि बेजान बांसों में भी आ जाती है जान

Bamboo art

बांस की आकर्षक कलाकृतियां पर देखने वालों की ठहर जाती है नजर

राँची:- कई हाथों में ऐसा हुनर होता है कि बेजान-निष्प्राण वस्तुओं में भी जान आ जाती है। राजधानी रांची से सटे कांके प्रखंड के बाढ़ू गांव की रहने वाली महिलाओं के हाथों का जादू जब बांस की तीलियों से होकर गुजरता है, तो बेजान बांसों में भी जान आ जाती है। इनके समूह में 40 महिलाएं हैं, जो कई वर्षां से बांस की आकर्षक कलाकृतियां बनाकर बाजार में बेचकर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भरता प्राप्त कर रही है।

बांस की आकर्षक कलाकृतियों बनाकर दर्जनों महिलाएं न सिर्फ आर्थिक रूप से स्वावलंबन की राह पर चल पड़ी है, बल्कि नयी और युवा पीढ़ी को भी स्वरोजगार के माध्यम से आर्थिक आत्मनिर्भरता प्राप्त करने का मंत्र भी देने का काम किया है। इनसे प्रेरणा लेकर गांव के आसपास के कई युवा भी इस काम में जुट गये है।

बांस से कलाकृतियां बनाने में जुटी बसंती देवी , सुनीता देवी और मंजू देवी ने बताया कि जहां-जहां भी मेले का आयोजन होता है, वहां गांव की महिलाएं अपना स्टॉल लगाने जाती है। इसके अलावा सरकार और प्रशासन की ओर से भी कई मेलों का आयोजन होता है, जिसमें वे अपने उत्पादों की बिक्री के लिए जाती है, इन मेलों में कलाकृतियों की अच्छी कीमत मिलती है।

वैश्विक महामारी कोरोना ने इन्हें परेशान तो किया, लेकिन इनके हौसले को तोड़ न सका। लॉकडाउन के बुरे वक्त में इन्हें कच्चे माल और बाजार की समस्या के कारण अपना रोजगार कुछ दिनों के लिए बंद करना पड़ा,हालांकि अब सबकुछ पटरी पर आ गया है। मंजू महली ने बताया कि बाजार बंद रहने के कारण न तो उनके द्वारा तैयार उत्पादों की बिक्री हो पायी और न ही कच्चे माल की व्यवस्था हो पायी, जिससे वे नये उत्पादों को तैयार कर सके। इस कारण तीन महीनों के दौरान उन्हें दोहरी मार झेलनी पड़ी।

बाढ़ू गांव की मंजू देवी को अपने पेशे पर फक्र है। उनका मानना है कि यह सही वक्त है, जब आत्मनिर्भर बनने की इच्छा रखने वाले महिला-पुरुष केंद्र और राज्य सरकार की ओर से मिल रही सुविधाओं का लाभ उठाकर अपने सपने को पूरा कर सकते हैं।
बांस की कलाकारी ने इन महिलाओं को एक ओर जहां स्वावलंबी बनाया,वहीं दूसरी ओर इन्हें सम्मान से जीने का सलीका भी सिखाया। आज ये महिलाएं इलाके के दूसरे लोगों के लिए नजीर बन गयी हैं।

Recent Posts

%d bloggers like this: