November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

स्वयं सहायता के दीदियों को जल्द हीं जोड़ा जायेगा मत्स्य पालन रोजगार से : उपायुक्त

देवघर:- उपायुक्त नैंन्सी सहाय के निदेशानुसार आज मत्स्य विभाग द्वारा एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन जेएसएलपीएस कार्यालय के सभागार में किया गया। कार्यशाला में देवघर जिला के विभिन्न प्रखण्डों के प्रखण्ड कार्यक्रम प्रबंधक, एफटीसी व जेएसएलपीएस के अधिकारियों को मत्स्य पालन से जुड़ी विभिन्न जानकारियां देते हुए इसके बारीकियों से अवगत कराया गया।
प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान जिला मत्स्य पदाधिकारी प्रशांत कुमार दीपक द्वारा जानकारी दी गयी कि हमारी अर्थव्यवस्था में मछली पालन एक महत्वपूर्ण व्यवसाय है, जिसमें रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। ग्रामीण विकास एवं अर्थव्यवस्था में मछली पालन की महत्वपूर्ण भूमिका है। मछली पालन के द्वारा रोजगार सृजन तथा आय में वृद्धि की अपार संभावनाएं हैं। ऐसे में ग्रामीण पृष्ठभूमि से जुड़े हुए लोगों व सखी मंडल की दीदियों को आर्थिक एवं सामाजिक रूप से सशक्त करने में मत्स्य रोजगार में अहम भूमिका अदा कर सकता है। मत्स्योद्योग एक महत्वपूर्ण उद्योग के अंतर्गत आता है तथा इस उद्योग को शुरू करने के लिए कम पूंजी की आवश्यकता होती है। इस कारण इस उद्योग को आसानी से शुरू किया जा सकता है।
इसके अलावे प्रशिक्षण के दौरान मत्स्य प्रसार पदाधिकारी रवेन्द्र नाथ सहाय द्वारा जानकारी दी गयी कि मत्स्य रोजगार के दौरान कुछ बारीकियों और सावधानियों के साथ बेहतर तरीके से मत्स्य पालन किया जा सकता है। इसमें मुख्य रूप से ठंडे स्थानों पर रोहू और कतला प्रजाति की मछली का पालन किया जा सकता है। वहीं सामान्य तापमान वाले स्थानों में सिल्वर कार्प, ग्रास कार्प और कॉमन कार्प प्रजाति की मछली का उत्पादन करने से आय बढ़ाई जा सकती है।
इस संबंध में जेएसएलपीएस के डीपीएम प्रकाश रंजन द्वारा जानकारी दी गयी कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु हुए तालाबंदी के कारण गांव के गरीब तबकों को खासतौर पर दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति पर अत्यंत ही बुरा असर पड़ा है। ऐसे में जिला प्रशासन द्वारा जेएसएलपीएस के माध्यम से सखी मंडल की महिलाओं को स्वरोजगार करने हेतु प्रेरित किया जा रहा है, ताकि वे अपने घरों में हीं सुरक्षित रहते हुए स्वरोजगार कर कुछ आमदनी कर सकें। इसी कड़ी में आज मत्स्य विभाग के सहयोग से जेएलएलपीएस के सभी अधिकारियों, प्रखण्ड पदाधिकारियों व कर्मियों को मत्स्य रोजगार से जुड़ी विस्तृत जानकारी व प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के पश्चात जिले के सभी प्रखण्डों व पंचायतों के स्वयं सहायता समूह की दीदियों को मत्स्य पालन के रोजगार से जोड़ा जायेगा, ताकि वे अपने गांव में हीं मत्स्य पालन कर अपने परिवार को सशक्त व आत्मनिर्भर बन सके।

Recent Posts

%d bloggers like this: