December 4, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सावन में पहली बार बाबा भोलेनाथ पर जलाभिषेक पर रोक

पहाड़ी मंदिर, बाबा बैद्यनाथधाम व वासुकिनाथ धाम मंदिर के श्रद्धालुओं को मिलेगी ऑनलाइन दर्शन की सुविधा

राँची:- पवित्र सावन महीने की शुरुआत 6 जुलाई से हो रही है। सोमवार से शुरू हो रहे सावन महीने की समाप्ति भी पांचवें सोमवार को होगी। वर्षा बाद में आये इस अनोखे संयोग में श्रद्धालुओं को वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर बाबा मंदिर में पूजा-अर्चना की सुविधा नहीं मिलेगी। लेकिन झारखंड में रांची, देवघर और दुमका के तीन प्रमुख शिव मंदिरों श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन दर्शन की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है।
झारखंड उच्च न्यायालय के निर्देश पर राज्य सरकार की ओर से देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम और दुमका स्थित बाबा वासुकिनाथधाम मंदिर में बाबा भोलेनाथ के ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की गयी है। जबकि रांची जिला प्रशासन की ओर से राजधानी स्थित प्रसिद्ध पहाड़ी मंदिर के श्रद्धालुओं के आस्था को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की है।

पहाड़ी मंदिर में ऑनलाइन दर्शन

रांची जिला प्रशासन की ओर से पहाड़ी मंदिर में पूजा-अर्चना और जलाभिषेक को लेकर ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था को अंतिम रूप दिया जा रहा है। जबकि देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर में ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था को लेकर रविवार को ट्रायल का काम भी सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया।

बाबा बैद्यनाथ की पूजा-अर्चना को प्रातः 4ः45 से 5ः30 बजे तक लाईव दिखाया जायेगा

देवघर की उपायुक्त नैंन्सी सहाय ने बताया कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए झारखण्ड उच्च न्यायालय व राज्य सरकार के निर्देशानुसार श्रावणी मेले के आयोजन को इस वर्ष स्थगित रखा गया है। ऐसे में देवतुल्य श्रद्धालुओं को आस्था व सुविधा को देखते हुए श्रावण माह में बाबा बैद्यनाथ के दर्शन के लिए ऑनलाइन वर्चुअल दर्शन की व्यवस्था की गयी है। इसको लेकर राज्य सरकार के वेबसाईट झारगॉव डॉट टीवी के साथ-साथ देवघर प्रशासन के फेसबुक पेज व जिला प्रशासन के वेबसाईट देवघर डॉट एनआईसी डॉट इन पर ऑनलाइन बाबा का दर्शन श्रद्धालु कर सकते हैं। इसके अलावा विभिन्न टीवी चैनलों के माध्यम से बाबा बैद्यनाथ का ऑनलाइन दर्शन दिखाया जायेगा। नैंन्सी सहाय ने बताया कि ुबह होने वाली बाबा बैद्यनाथ की पूजा-अर्चना को प्रातः 4ः45 से 5ः30 बजे तक लाईव दिखाया जायेगा। साथ हीं संध्या होने वाली श्रृंगार पूजा को 7ः30 बजे से 8ः15 बजे तक प्रसारित किया जायेगा।

वासुकिनाथ धाम में ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था

दुमका जिले के विश्व प्रसिद्ध वासुकिनाथधाम में भी सावन में आम श्रद्धालुओं के मंदिर में प्रवेश पर रोक का आदेश प्रभारी रहेगा। दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी0 ने बताया कि सरकार और उच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद इस वर्ष सावन में आम श्रद्धालुओं को पूजा-अर्चना और जलाभिषेक की अनुमति नहीं होगी। इस दौरान पंडा समाज और स्थानीय लोग किस तरह से पूजा अर्चना कर सकेंगे, इसे लेकर विभाग दिशा-निर्देश तय कर रहा है। वही बाबा वासुकिनाथ धाम में ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था की जा रही है।

Recent Posts

%d bloggers like this: